दैनिक व्यायाम व  वजन नियंत्रण से बचाव सम्भव है -डॉ रमाकान्त गुप्ता


धनसिंह—समीक्षा न्यूज—   
घुटनों के दर्द कारण व निवारण पर गोष्ठी सम्पन्न
वैदिक जीवन शैली सर्वोत्तम है-राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य
गाज़ियाबाद। मंगलवार को केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के तत्वावधान में "घुटनों के दर्द कारण व निवारण" विषय पर ऑनलाइन गोष्ठी का आयोजन गूगल मीट पर  किया गया। यह परिषद का 117वां वेबिनार था।
मुख्य वक्ता डॉ रमाकान्त गुप्ता (सीनियर ऑर्थोपेडिक सर्जन) ने कहा कि घुटनों में दर्द की समस्या आज केवल बड़े-बुजुर्गों तक ही सीमित नहीं रह गई अपितु  किसी भी आयु के व्यक्ति में ये समस्या देखने को मिल रही है।घुटने का दर्द कई कारणों से हो सकता है जैसे लिगामेंट मोच और मांसपेशियों में खिंचाव,गठिया, लम्बे समय तक लगातार खड़े होने के कारण,थाइराइड,अधिक वजन,यूरिक एसिड के बढ़ने के कारण,पानी का कम उपयोग या कैल्शियम की कमी।घुटने के दर्द को आसानी से कुछ घरेलू उपाय से ठीक किया जा सकता है। सीढ़ी का प्रयोग धीरे धीरे करें, दूध,दही,पनीर आदि का सेवन बढ़ाये,गर्म ठण्डे कपड़े से सिकाई करे,सूक्ष्म व्यायाम,वजन को कम करना व भारतीय पद्धति के शौचालय का प्रयोग करने से बचाव हो सकता है।उन्होंने कहा कि दैनिक हल्का व्यायाम,सैर करने व संतुलित भोजन से घुटने ठीक रहेंगे।
केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने कहा कि स्वास्थ्य एक व्यक्ति की शारीरिक,मानसिक और सामाजिक बेहतरी को संदर्भित करता है।एक व्यक्ति को अच्छे स्वास्थ्य का आनंद लेते हुए तब कहा जाता है जब वह किसी भी शारीरिक बीमारियों,मानसिक तनाव से रहित होता है और अच्छे पारस्परिक संबंधों का आंनद  उठाता है।वैदिक संस्कृति अपनाने से जीवन शैली में विकास होता है और लंबी आयु तक जीवन को स्वस्थ रहकर जिया जा सकता है। वेद भी जीवेम शरद: शतम यानी 100 वर्ष तक स्वस्थ रह कर जीने की कामना करते हैं।
गोष्ठी अध्यक्ष आर्य नेता विजय आर्य(मंत्री आर्य समाज नरवाना ) ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए स्वस्थ रहने के लिए योग, प्राणायाम व प्राकृतिक जीवन शैली अपनाने पर बल दिया।
प्रान्तीय महामंत्री प्रवीण आर्य ने कहा कि खराब जीवन शैली, खराब खानपान और शारीरिक श्रम न करने के कारण कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है घुटनों के दर्द में सामान्य व्यायाम व योग जैसे मकरासन, गरुड़ासन,वीरासन आदि से लाभ सम्भव है।
प्रधान शिक्षक सौरभ गुप्ता ने कहा कि प्रतिदिन 20 से 25 मिनट तक चलने का अभ्यास सभी को करना चाहिए साथ ही सुखासन में बैठें घुटनों के दर्द में लाभ मिलेगा।
गायिका दीप्ति सपरा,पुष्पा शास्त्री,रविन्द्र गुप्ता,किरन सहगल,संध्या पाण्डेय,आचार्या धर्मरक्षिता शास्त्री,रजनी गोयल, सुषमा बुद्धिराजा,सुषमा गुगलानी,जनक अरोड़ा आदि ने मधुर गीतों से सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया।
मुख्य रूप से आचार्य महेन्द्र भाई, देवेन्द्र गुप्ता,अनिता रेलन,अंजू बजाज,राजश्री यादव,प्रकाशवीर शास्त्री,सुरेश आर्य,यज्ञवीर चौहान,सुरेन्द्र शास्त्री आदि उपस्थित थे।