शगुन व विवाह के गीतों ने किया कोरोना तनाव मुक्त


धनसिंह—समीक्षा न्यूज   

संगीत उत्साह व प्रसन्नता का संचार करता है-राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य

गाजियाबाद। केन्द्रीय आर्य युवक परिषद ने कोरोना काल मे मनोरंजन के लिए "गीत: शगुन-विवाह" का ऑनलाइन कार्यक्रम आयोजित किया जिसमें तीन घंटे तक विवाह के लोकगीत व पंजाबी गिद्दे प्रस्तुत किये गए। यह कोरोना काल में 234 वां वेबिनार था।

केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने कहा कि ढोलक की थाप और संगीत मुर्दा व्यक्ति में भी नए रक्त व उत्साह का संचार कर देता है।  कोरोना काल के तनावपूर्ण वातावरण में संगीत सर्वोत्तम साधन है।खुश व प्रसन्नचित्त रहने से रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है हम 234 वेबिनार कर ज्ञान और खुशियां बांटते हैं।

सुप्रसिद्ध गायक नरेन्द्र आर्य सुमन ने "डोली सज के दुल्हन ससुराल चली" और प्रवीन आर्या ने "लठ्ठे दी चादर और बाजरे दा सिट्टा" पंजाबी गीत सुनाये।संगीता आर्या ने छड़या दी जून बुरी आदि गीतों से समां बांध दिया।इसके साथ ही सुदेश आर्या,दीप्ति सपरा,नरेश खन्ना,वीना वोहरा,निताशा कुमार, प्रतिभा सपरा आदि ने शादी का माहौल बना दिया।

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि मधु बेदी व अध्यक्षता करते हुए उषा आहूजा ने अपनी सफल आयोजन के लिए शुभकामनाएं प्रदान की।

आचार्य महेन्द्र भाई,वीना आर्या, सौरभ गुप्ता,जनक अरोड़ा, राजश्री यादव,ओमप्रकाश अरोड़ा,उर्मिला आर्या आदि उपस्थित थे।