बेटियों की सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण होनी चाहिए: हेमलता शिशौदिया


सरकार की विभिन्न योजनाएं चाहे वह मिशन शक्ति हो या बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ सारी योजनाएं मात्र कागजी कार्यवाही ना बन कर रह जाएं सबसे पहले हमें बेटी के जीवन को सुरक्षित रखने के प्रयास करने होंगे क्योंकि बेटी है तो हम हैं चाहे बेटी घर में हो या बाहर उसे हर तरह से सुरक्षित रखने के उपाय करने होंगे। बेटियों की रक्षा के लिए उन्हें आत्म सुरक्षा के साथ-साथ परिस्थिति का मुकाबला करने के लिए पूरी तरह से प्रशिक्षण देना अनिवार्य है इस कार्य के लिए अधिक से अधिक प्रयत्न किए जाने चाहिए और कॉलेजों ,बाजारों या रास्ते में होने वाली छेड़खानी बचाव करने के लिए पूरी तरह प्रबंध किए जाने चाहिए । लड़कियों पर किए जाने वाले किसी भी अत्याचार के विरुद्ध अतिशीघ्र कार्यवाही की जानी चाहिए और अपराधियों को तुरंत दंड भी मिलना चाहिए क्योंकि कई बार दंड देते देते बहुत देर हो जाती है और लड़की को मानसिक , सामाजिक एवं शारीरिक तनाव एवं पीड़ा से गुजरना पड़ता है । आज समाज के हर व्यक्ति को सोचना होगा की बेटियां हमारी अमूल्य धरोहर है और उनकी सुरक्षा करना हमारा महत्वपूर्ण दायित्व है।       
हेमलता शिशौदिया, 
जय भारत मंच, 
मेरठ मंडल महामंत्री महिला मोर्चा उत्तर प्रदेश