रामदुलार यादव ने प्रकाश उत्सव पर बांटे मास्क




धनसिंह—समीक्षा न्यूज

साहिबाबाद। लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट द्वारा ज्ञान पीठ केन्द्र के प्रांगण में प्रकाश उत्सव के पावन अवसर पर “ मास्क वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया वैश्विक महामारी कोरोना का ध्यान रखते हुए जरुरत जरुरत मंद लोगो में तथा हिन्डन पुलिस चौकी के पास लेबर चौक पर भी मास्क मजदूर भाइयों में वितरित किया गया इस अवसर पर गुरु नानक देव जी को स्मरण कर चित्र पर पुष्प अर्पित किया गया तथा कार्यक्रम में शामिल सभी लोगो ने गुरु नानक देव जी महाराज द्वारा बताये रास्ते पर चलने का संकल्प लिया कार्यक्रम के मुख्य वक्ता लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट के संस्थापक अध्यक्ष राम दुलार यादव रहे अध्यक्षता सी.पी. सिंह ने किया, फूल मती यादव, जर्नलिस्ट सुनीता यादव, ने मास्क वितरण में सहयोग किया आयोजन इंजी. धीरेन्द्र यादव ने किया, महिला उत्थान संस्था की राष्ट्रीय अध्यक्ष विन्दू राय कविता पाठ कर गुरु नानक देव के विचार को अभिब्यक्त किया।             

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट के संस्थापक राम दुलार यादव ने कहा कि गुरु नानक देव जी भारतीय समाज तथा हिन्दू धर्म में ब्याप्त रूढ़िवाद अन्धविश्वास, पाखण्ड, भ्रम और झूठ का पर्दाफाश किया। उनके चिंतन का आधार मानवता रहा, विषमता, ऊँच, नीच, जातिवाद, छुआछूत को वह देश, समाज में फैली बुराई मानते थे तथा मानवता की भलाई के लिए समता, और न्याय के लिए देश, विदेश उपदेश देते हुए अन्धकार मुक्त समाज को प्रकाश ज्ञान प्रदान करते हुए सिख धर्म की स्थापना की, आप मूर्तिपूजा के घोर विरोधी रहे मानव की पीड़ा, दुःख दर्द कैसे दूर हो लगातार प्रयासरत रहे जरूरतमंद की सेवा करना दूसरे की पीड़ा का अनुभव कर मदद करना उनका मुख्य उद्देश्य रहा, वह एक ईश्वरवादी रहे तथा नेक कमाई द्वारा जरूरतमंद की सेवा के पक्षधर रहे जातिवाद, छुआछूत, ऊँच नीच को समाप्त करने के लिए लंगर की ब्यवस्था की संगत और पंगत में राजा, फ़कीर एक साथ वैठकर भोजन करें जिससे उनमे ब्याप्त अहंकार दूर हो सदभाव भाई चारा प्रेम और सहयोग बढे। उन्होंने नर नारी समानता पर बल दिया। लोभ, लालच संग्रह वृति का परित्याग कर नेक कमाई से कुछ हिस्सा जरूरतमंद की सेवा के लिए दान देने की प्रेरणा दी।       

21वीं सदी में भी हम जातिवाद धार्मिक पाखण्ड, ऊँच नीच भेदभाव, नस्लवाद के शिकार है। समाज में कुछ कट्टरपंथी ताकते नफरत फैलाकर सदभाव, भाई चारा को बिगाड़ने का कार्य कर रही है हमें उन ताकतों से सावधान रहते हुए समाज में सहिष्णुता का प्रसार करना है तथा समावेशी समाज बनाना है जिसमें किसी के साथ अन्याय ना हो I गुरु नानक देव हिन्दू, मुसलमान में कोई भेदभाव नहीं करते थे, वे समस्त मानवता के कल्याण में अपना सर्वस्व अर्पण कर पूरा जीवन त्याग दिया, देश समाज गुरु नानक देव के बताये मार्ग पर चलकर ही सुदृढ़, हो सकता है।

कार्यक्रम में सी पी सिंह, राम दुलार यादव, फूलमती यादव, बिन्दू राय, सुनीता यादव, मो. सलाम, प्रेम चन्द्र पटेल, राजीव गर्ग, केदार सिंह, इंजी. धीरेन्द्र यादव, अंकित राय, दिलीप यादव, अमर बहादुर, हरी किशन, राजेन्द्र प्रसाद यादव, दया चन्द यादव, फूल हसन, मो. असलम, जब्बार, करीमउल्लाह, जुल्फकार, मो. आदिल, शम्भू शाह, प्रकाश, विजय, हरीश, शौकत, पप्पू, असगर अली, परवेज, छोटेलाल, अरुण पटेल, दादू, रैदास, सुभाष, विनोद, इत्यादि लोग शामिल रहे।