मुख्यमंत्री ऐसा हो जिसके डर से अपराधी अपराध की दुनिया छोड़े या यह दुनिया: राहुल गोला गौरक्षक


समीक्षा न्यूज नेटवर्क—   
गाजियाबाद। उत्तर प्रदेश में दिन प्रतिदिन अपराध बढ़ रहे हैं। जिसे देखकर प्रदेश वासियों का विश्वास सरकार से उठ चुका है। सरकार अपने कई हथकंडे अजमा चुकी है परन्तु अपराधी बगैर डर के अपराध करें जा रहें हैं, लगता है उनके अंदर कोई भी डर नहीं है जिससे कि वो अपराध करना छोड़ सके।
पिछले तीन-चार साल में उत्तर प्रदेश सरकार ने बहुत एनकाउंटर करें। किन्तु लगता है इन एनकाउंटरो से अपराधी पर कोई भी फर्क नहीं पड़ा। आये दिन अपराधी अपनी मनमानी कर रहे हैं। लूट-डकैती, सरे बाजार में हत्या को अंजाम देना, बलात्कार, फिरोती मांगना, अपनी बात मनवाने के लिए राष्ट्रीय राज्यमार्ग को बंद करके धरना प्रर्दशन करना न जाने कितने प्रकार के अपराध हो रहे हैं।
जहां उत्तर प्रदेश सरकार में प्रदेश में एक तरफ गौ संरक्षण की बात करती है उसी प्रदेश में गाय रोड़ पर भटकती है, गौशालाओं में कोई विकास नहीं हो रहा, चारे की कमी के कारण गौशालाओं में गाये भूखी-प्यासी रहतीं हैं।
महिलाओं की सुरक्षा करने वाली सरकार आज हो रहें बलात्कार जैसे दर्दनाक अपराध पर भी आंख बन्द करके बैठी है, अलीगढ़, हाथरस, मेरठ, गाजियाबाद न जाने कितने जिलों में ऐसी घटनाएं हो चुकी है।
उत्तर प्रदेश सरकार जहां रामराज्य लाने की बात कहती हैं वहीं अपराध आसमान छू रहे हैं।
अपराधियों से महिलाएं तो असुरक्षित हैं ही परन्तु छोटी बच्चियां जिन्हें अच्छी तरह से बोलना भी नहीं सीखा ऐसी बच्चियों को नही छोड़ा। इस तरह बढ़ रहें अपराधों के देखते हुए जनता की उम्मीद कानून और पुलिस प्रशासन या अपने चुने हुए राजा पर होती है, परन्तु वहां से भी अगर अपराधी को सजा न हों तो जनता की उम्मीद टूटती, क्योंकि जिस विश्वास से 5 साल के लिए सरकार को चुना जाता है। वह विश्वासघात हो तों जनता बदलाव लाती है और एक ऐसे राजा की तलाश में रहती है जिसके डर से अपराधी अपने अपराध छोड़े या दुनिया छोड़ दे।