बीजेपी पार्षद मनोज गोयल ने कौशाम्बी थाना पर दिया धरना


धनसिंह—समीक्षा न्यूज       

गाजियाबाद। बीजेपी पार्षद मनोज गोयल ने गत दिनों थाना कौशांबी के समक्ष धरना दिया। इस दौरान उन्हें धरने से हटाने की एक एएसआई ने हिम्मत बटोरी, पर पार्षद व उनके एक समर्थक के अड़ जाने के चलते वह निष्फल हो गए। पार्षद श्री गोयल ने बताया कि उनके वार्ड नम्बर 72 के एक बुजुर्ग महिला को कौशाम्बी पुलिस न्याय दिलवाने में उदासीन दिखाई दे रही है, जिसके चलते उन्हें धरना देकर न्याय की गुहार लगानी पड़ी। उन्होंने कहा कि पार्टी व संगठन के समर्थकों को यदि न्याय नहीं मिला तो आंदोलन तेज किया जाएगा।

गाजियाबाद नगर निगम के पूर्व कार्यकारिणी सदस्य व निगम पार्षद मनोज गोयल ने बताया कि वैशाली सेक्टर 1 में रहने वाली सीनियर सिटीजन, जिसके बच्चे विदेश में रहते हैं, उसके घर पर कुछ लोगों ने उसके साथ मारपीट कर दी थी। तब बुजुर्ग महिला ने पुलिस से शिकायत की लेकिन उल्टा ही पुलिस ने उस बुजुर्ग महिलाओं के खिलाफ मुकदमा लिख दिया। उसके बाद शिकायत मिलने पर बीजेपी के कौशांबी से पार्षद मनोज गोयल जब झगड़े की सच्चाई जानने के लिए और निष्पक्ष जांच के लिए यूपी गेट चौकी इंचार्ज से मिले तो चौकी इंचार्ज ने उनसे गलत भाषा का प्रयोग किया और उनकी औकात बताने की बात कही। ऐसा मनोज गोयल ने आरोप लगाया है। इसी बात से नाराज होकर वह कौशांबी थाने में धरने पर बैठ गए, जिसके बाद एक अन्य एसएसआई ने उन्हें समझाया तब जाकर मामला शांत हुआ। लेकिन इसकी शिकायत पार्षद ने बीजेपी के आला अधिकारियों से की है। मनोज गोयल का कहना है कि कौशांबी चौकी इंचार्ज बीजेपी के कार्यकर्ता और पार्षदों से खार खाता है।

पार्टी सूत्रों का कहना है कि जिस तरह से पार्टी की निचली मजबूत कड़ी समझे जाने वाले निगम पार्षद व अन्य कार्यकर्ताओं की उपेक्षा प्रशासनिक पदाधिकारी कर रहे हैं, उससे बीजेपी समर्थक उदासीन होने लगे हैं, जिससे योगी सरकार की नैया 2022 में किनारे पर भी डूब सकती है।