बच्चों की सुरक्षा के लिए बैठक सम्पन्न




धनसिंह—समीक्षा न्यूज 

गाजियाबाद। “आशादीप फाउन्डेशन” डी-81 शहीद नगर नजदीक शालीमार गार्डन गाजियाबाद के प्रांगण में साथ नेशनल एक्शन एंड कोओर्डिनेशन ग्रुप इंडिया वाईलेशन अगेंस्ट चिल्ड्रेन द्वारा सब डिवीज़न लेबल (यमुना विहार) के हित धारकों की बैठक संपन्न हुई| इस वार्षिक बैठक में बाल अधिकारों की सुरक्षा के लिए कैसे कार्य किया जायेगा उस पर विस्तार से चर्चा हुई, विचार व्यक्त करते हुए सभी एक मत थे कि जन-साधारण को समाज में जागरूकता पैदाकर बच्चों में सुरक्षा के बारे में निर्भीकता पूर्वक जहाँ अन्याय, अत्याचार या यौन शोषण हो रहा है उसके विरुद्ध अपने वार्ड के नजदीक रहने वाले लोंगों को अवगत कराना अति आवश्यक है तथा समस्या को शीघ्र दूर करने के लिए सभी वार्ड लेविल में बाल संरक्षण कमेटी का गठन किया गया| दिल्ली राज्य विधिक सेवा के 3 प्रतिनिधियों ने, प्राधिकरण, आशा वर्कर्स सीमापुरी जैन मन्दिर, कलन्दर कालोनी, दिलशाद कालोनी और दिलशाद गार्डन, आंगनवाडी कार्यकर्ता, सदस्य बाल संरक्षण कमेटी वार्ड नं0 5, वार्ड नं0 34E, 33E, वार्ड नं0 35E, वार्ड नं0 28E, वार्ड नं0 29E और 5 वार्डों के टीचरों ने भाग लिया|

    कार्यक्रम में एच0 के0 चेट्टी निदेशक आशादीप फाउन्डेशन ने बच्चों की सुरक्षा के लिए नीतियों और कानूनों के प्रभावी कार्यान्वयन बाल संरक्षण हित धारकों के बीच व्यापक सहयोग की सुविधा प्रदान करना तथा हर तरह से उनके हित में काम करने के लिए प्रेरित किया| उन्होंने विस्तार से बताया कि जीवन अमूल्य है केन्द्रीय सरकार राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग का गठन किया, बच्चों की शिक्षा, स्वास्थ्य, उनकी देखभाल, किशोर न्याय, उपेक्षित, वंचित व नि:शक्त बच्चों की देखभाल, बालश्रम या बच्चों में तनाव का उन्मूलन, बाल मनोविज्ञान, सामाजिक विज्ञान और बच्चों से सम्बन्धित कानूनों को विस्तार से बताया तथा पीड़ितों को सहायता के लिए 1098 नं0 पर बच्चों के विरुद्ध किये गये कृत्य की सूचना देने से बाल संरक्षण में मदद मिलेगी|

   लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट के संस्थापक/अध्यक्ष राम दुलार यादव ने बाल संरक्षण अधिकार कमेटी के सदस्यों को सम्बोधित करते हुए कहा कि पाश्चात्य यूरोपियन देशों में एक बच्चे के साथ यौन या किसी प्रकार का शोषण अन्तर्राष्ट्रीय खबर बन जाती है, वहीँ हमारे देश में हर रोज बच्चे हजारों की संख्या में शोषण के शिकार होते हैं यहाँ ऐसी घटनाओं पर हम खेद व्यक्त कर अपनी जिम्मेदारी से मुक्त हो जाते हैं, हमें समाज को शिक्षित और जागरूक करना होगा, बच्चों में आत्म विश्वास पैदा करना होगा कि वे आप बीती निर्भीकता पूर्वक अपने परिवार में या कोई नजदीक का व्यक्ति शोषण का कृत्य कारित करता है तो बाल अधिकार संरक्षण कमेटी में जाकर अपनी बात बता सकता है, वहा उसे उचित मदद मिलेगी और अभियुक्त को कड़ी से कड़ी सजा मिलेगी| 

    राष्ट्रीय महिला उत्थान संस्था की राष्ट्रीय अध्यक्ष बिन्दू राय ने महिलाओं और बच्चियों के साथ देश में बढ़ते अपराध, यौन शोषण पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा कि महिलाओं के साथ जघन्य अपराध कारित करने वालों को अतिशीघ्र सजा होने के साथ, उनकी व्यथा को सुन, उसकी रिपोर्ट अवश्य लिखी जानी चाहिए, त्वरित कार्यवाही से अपराधों में कमी आयेगी, अपराध छिपाने से अपराध बढ़ता है इसलिए समाज में जागरूकता पैदा कर अन्याय, अत्याचार और बाल शोषण, महिलाओं के हर तरह के शोषण में कमी आयेगी।

   अनिल पॉल ने समाज में शिक्षा द्वारा जागरूकता लाने के लिए बहुत समय से कार्य कर रहे है| उन्होंने कार्यक्रम में शामिल प्रतिनिधियों, गणमान्य अतिथियों और कार्यकर्ताओं का आभार व्यक्त किया| तथा बाल संरक्षण अधिनियम को जन-जन में बताने का संकल्प लेने का आह्वान किया।