अस्पताल में मरीजों के लिए जगह नहीं: अशोक भारतीय

 



धनसिंह-समीक्षा न्यूज  

गाजियाबाद। व्यापारी नेता एवं पूर्व लोकसभा प्रत्याशी अशोक भारतीय का कहना है कि माननीय हाईकोर्ट की फटकार के बाद चुनाव आयोग द्वारा 2 मई के चुनाव परिणाम के बाद विजय जुलूस निकालने पर पाबंदी लगाने वाला कदम देर से उठाया गया कदम और हाईकोर्ट की फटकार के बाद डर से उठाये गये कदम की पंडित अशोक भारतीय निंदा करता हूं सोए हुए चुनाव आयोग को पहले बंगाल की लाखो की रैली 5 राज्यों के चुनावो में लाखों लोगों की रेली पर प्रतिबंध लगाना चाहिए था और उन राज्यों सहित देश में कोरोना फैलने का कारण कहीं ना कहीं चुनाव आयोग की उदासीनता है लापरवाही है उन्होंने कहा कि मैं इसकी पंडित अशोक भारतीय कठोर शब्दों में निंदा करता हूं लोगों की मौत का दोषी चुनाव आयोग को क्यों न मान लें चुनाव आयोग की उदासीनता के कारण ही देश में वर्तमान ने हाहाकार मचा है सरकार ने अपने हाथ खड़े कर दिए कब्रिस्तान में लाशों के लिए जगह नहीं अस्पताल में मरीजों के लिए जगह नहीं सांस के लिए आक्सीजन नहीं चुनाव आयोग को पहले ही कदम उठाकर चुनाव पर रोक लगानी चाहिए थी अब इससे कोई फायदा नहीं है अभी तो जो चुनाव के बाद बंगाल आदि जगह पर जो टेस्टिंग होंगी उसमें जो मानो करो ना बम का विस्फोट होगा उसके लिए चुनाव आयोग उत्तरदाई होगा। चुनाव आयोग की उदासीनता के साथ-साथ कोरोना सुनामी का दोषी कहीं ना कहीं कुंभ तथा उत्तर प्रदेश के बॉर्डर दिल्ली बॉर्डर पर चल रहा किसान आंदोलन  भी उत्तरदाई है मैं किसान नेताओं से इस आंदोलन को जनहित में देशहित में कोरोना सुनामी की वजह से तुरंत समाप्त करने की करबद्ध प्रार्थना करता हूं अगर आप सच्चे दिल से देश की जनता को प्यार करते हैं तो कोरो ना सुनामी के संकट की वजह से अपने आंदोलन को तुरंत समाप्त करके अपने घर पर सुरक्षित रहें और देश की जनता को भी सुरक्षित रखें। उत्तर प्रदेश में चुनाव ड्यूटी के कारण सैंकड़ों कर्मचारी कोरोना काल का ग्रास बन चुके है। नगर निगम गजप्रस्थ का एक कर्मचारी यूपी पुलिस के पुष्पेंद्र त्यागी व मुरादनगर के हंस इंटर कॉलेज का एक कर्मचारी मोत के आगोश में चला गया यह चुनाव आयोग की उदासीनता का जीता जागता उदाहरण हैं वहां के प्रधानाचार्य ने भी व्यवस्था पर प्रश्नचिंह लगाया है जो कि विचारणीय विषय है इन सब को ध्यान में रखते हुए चुनाव आयोग को खुद ही अदालत में अपने ऊपर हत्या का मुकदमा दर्ज करवाना चाहिए व मारे गए लोगों के परिजनो के लिए हजार्ने की व्यवस्था करने की मांग करते हैं। मैं पंडित अशोक भारतीय पूर्व लोकसभा प्रत्याशी 2 मई की मतगणना को एक महीने स्थगित करके उससे पहले श्मशान और कब्रिस्तान में लाशें गिनने और इलाज के अभाव में दम तोड़ने वाले मरीजों की संख्या के गिनती करने की अपील करता हूं, चुनाव आयोग मत गणना से पहले चुनाव से लौटे हजारों लाखों कर्मचारियों का कोरोना टेस्ट करायें और उनका इलाज कराकर मौत के आगोश में जाने से बचाए।