महन्त नारायण गिरि ने सूर्यभान सिंह के प्रथम जन्मोत्सव के अवसर पर दिया आशीर्वाद

 


धनसिंह—समीक्षा न्यूज   

गाजियाबाद।  भवरानी जालोर राजस्थान में ईश्वर सिंह के पुत्र सूर्यभान सिंह के प्रथम जन्मोत्सव के अवसर पर आयोजित आशीर्वाद समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में महन्त नारायण गिरि महाराज दूधेश्वर पीठाधीश्वर गाजियाबाद अन्तर्राष्ट्रीय प्रवक्ता पंचदशनाम जूना अखाड़ा, ने पधार कर आशीर्वाद दिया, ईश्वर सिंह  को विवाह के 22 वर्षो के उपरान्त भगवान दूधेश्वर की कृपा से सन्त महापुरूषों के आशीर्वाद से पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई है, ईश्वर सिंह जी सदैव सन्तों की सेवा में लगे रहते हैं बहुत धार्मिक और सन्तों के प्रति बहुत आस्था भाव रखते हैं उनके पुत्र के प्रथम जन्मोत्सव पर पूज्य गुरुदेव ने आशीर्वाद देकर सूर्यभान के लिये दीर्घायु एवं सदैव स्वस्थ रहने का आशीर्वाद दिया, साथ ही अपने माता पिता गुरूजनो सन्तों की सेवा करें पूरे विश्व अपने नाम के अनुरूप राजस्थान की पावन धरा का नाम रोशन करें ऐसा आशीर्वाद दिया, महाराज के साथ राजस्थान के सन्त महापुरुषो की पावन उपस्थिति हुई जिसमें  ब्रह्मसावित्री पीठाधीश्वर जगद् गुरू तुलसाराम महाराज असोत्तरा बाड़मेर, महन्त रणछोड़ भारती महाराज लेटा मठ, भैसवाडा मठ, महन्त प्रताप पुरी महाराज तारांतरा मठ बाड़मेर, महामण्डलेश्वर सन्तोष भारती महाराज भ्राद्राजुन ढाणी, पीर गंगानाथ महाराज सिरे मन्दिर जालोर, महन्त परशुराम गिरि महाराज गणेश आश्रम कनाना मठ, महन्त बाबु गिरि महाराज पूनासा मठ, ब्रह्मचारी सरत्, महन्त लाल भारती महाराज माण्डवा, महन्त प्रेम भारती महाराज गाजीपुरा, वासुदेवाचार्य महाराज जीतडा , महन्त काशीनाथ जी करड़ा, महन्त पर्वत गिरि महाराज सुरूश्वर मठ , महन्त लहर भारती महाराज, महन्त सत्यम गिरि महाराज, कृष्ण भक्त भोपा महेन्द्रसिंह राणावत जी उज्जैनीर मामा गुडामांगिया, सहित बाड़मेर मण्डल, जालोर मण्डल, आबु मण्डल के सन्तों ने आकर ईश्वर सिंह के पुत्र को आशीर्वाद दिया मंगलकामनाएं दी, साथ ही राजस्थान के कई रावलों के ठाकुर साहब लोगों ने आकर भी आशीर्वाद दिया, विशेष रूप से भवरानी के ठाकुर सा   प्रद्युम्न सिंह ने सन्तों का स्वागत किया, भवरानी कुंवर सा महेन्द्र पाल सिंह के साथ ईश्वर सिंह ने सभी सन्तों ने आशीर्वाद प्राप्त किया, आशीर्वाद समारोह मे सैकड़ों लोगों ने भाग लेकर ईश्वर सिंह के पुत्र सूर्यभान सिंह के लिये मंगलकामनाएं की अपना आशीर्वाद दिया ।