पार्षद अर्चना सिंह ने खींचा ध्यान

 




धनसिंह-समीक्षा न्यूज 

गाजियाबाद। शायद ही ऐसा कभी हुआ हो कि अस्पतालों में बेड और शमशान में चिता जलाने जलाने के लिए लोगों को इतना संघर्ष करना पड़ा हो। खासतौर पर लोगों को अंतिम संस्कार के लिए काफी संघर्ष करना पड़ रहा है। हिंडन मोक्ष स्थली पर हालात पहले ही खराब हैं। इसके अलावा शहर में तीन जगह और शमशान घाट हैं। जिसमें से एक शमशान घाट शास्त्री नगर के मंहिद्रा एनक्लेव में है। बीते 15 सालों से यह शमशान घाट अस्तित्व में है। बावजूद इसके यहां कुछ कमियां अभी भी हैं। जिनकी ओर पार्षद अर्चना सिंह ने गौर करने की अपील की है। उन्होंने बताया कि शास्त्री नगर महिंद्रा एनक्लेव श्मशान घाट (मोक्ष स्थली) पर बीते लगभग 15 वर्ष से शवों के दाह संस्कार किए जाते हैं। लेकिन आज तक यहां पर रसीद कटने की व्यवस्था सुचारू रूप से शुरू नहीं हो पाई है। पार्षद ने नगर आयुक्त और महापौर से निवेदन किया है कि रसीद की प्रक्रिया को शुरू करवाई जाए। रसीद ना कटने की वजह से मृत्यु प्रमाण पत्र बनाए जाने संबंधित की प्रक्रिया में परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा यहां पर एक कमेटी का गठन भी किया जाए या फिर नगर निगम अपने अधीन इस श्मशान स्थली को लेकर व्यवस्थित व सुचारू रूप से कार्य करवाएं। ताकि दाह संस्कार करने आने वाले लोगों को किसी भी तरह की दिक्कत या परेशानी का सामना ना करना पड़े और आगे की भी कार्य प्रक्रिया में उन्हें सहूलियत हो।