यज्ञनिष्ट उद्योगपति,आर्य नेता दर्शन कुकरेजा "अग्निहोत्री" नहीं रहे

 



धनसिंह—समीक्षा न्यूज 

गाजियाबाद। केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के तत्वावधान में यज्ञनिष्ठ उद्योगपति,आर्य नेता दर्शन कुकरेजा "अग्निहोत्री" को ऑनलाइन भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई। 

केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने बताया कि पाकिस्तान बंटवारे के समय 1947 मे माता शांतिदेवी व महात्मा गणेशदास अग्निहोत्री जो यज्ञ अग्नि पाकिस्तान से लाये थे उसी से उनके यहाँ प्रतिदिन यज्ञ प्रदीप्त होता रहा। दर्शन अग्निहोत्री समर्पण शोध संस्थान साहिबाबाद, गुरुकुल एटा, तपोवन आश्रम देहरादून, वैदिक भक्ति आश्रम रोहतक,आत्म शुद्धि आश्रम बहादुर गढ़, केन्द्रीय आर्य युवक परिषद व अनेकों गुरुकुलों के पोषक थे।उनकी बड़े बड़े वेदों के यज्ञ करवाने व गुरुकुलों की सेवा में बड़ी रुचि थी उनके निधन से आर्य जगत की गहरी क्षति हुई है।"हजारों साल तक नरगिस अपनी बेनूरी पर रोती है, बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदावर ऐसा "। गत रात्रि 2 बजे नोएडा के कैलाश अस्पताल में आपका कोरोना से निधन हो गया।

केन्द्रीय आर्य युवक परिषद उत्तर प्रदेश के महामंत्री प्रवीण आर्य ने गहरा शोक व्यक्त करते हुए आर्य समाज व गुरुकुलों की अपूर्णीय क्षति बताया।

आचार्य महेन्द्र भाई, यशोवीर आर्य,दुर्गेश आर्य,धर्मपाल आर्य, ओम सपरा,देवेन्द्र भगत,आचार्य गवेन्द्र शास्त्री, अरुण आर्य, सौरभ गुप्ता, उर्मिला आर्या, डॉ सुषमा आर्या, संजीव मल्होत्रा, सुरेश आर्य आदि ने भी अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके सेवा कार्यो को स्मरण किया।