बच्चों को नेजल स्प्रे वैक्सीन बचाये

 




धनसिंह—समीक्षा न्यूज

गाजियाबाद। भारत में तेजी से फैल रही कोरोना वायरस की लहर के बीच एक अच्छी खबर आई है, भारत बायोटेक हैदराबाद एक ऐसी वैक्सीन बनाने जा रहा है, जिससे कोरोना 99.9 फीसदी तक समाप्त हो सकेगा, यह एक नेजल स्प्रे (नाक में डालले जाने वाली दवाई) की तरह काम करेगी, इसका कैमिकल ट्रायल शुरू हो चुका है, परिणाम भी सकारात्मक आ रहे हैं, दुनिया के दूसरे देशों, कनाडा व यूके में भी, इसी तरह की वैक्सीन के ट्रायल चल रहे हैं यदि ये कामयाब हो गई तो भारत में आने वाली तीसरी लहर से बच्चों को बचाया जा सकेगा, क्योंकि ये नाक में डाला जाने वाला स्प्रे की तरह होती है, जो कोरोनावायरस को नाक में ही मारने में सफल होता है, इसे लेने के लिए किसी विशेषज्ञ की जरूरत भी नहीं होती, कनाडा की कंपनी सैनोटाइज ने एक स्प्रे प्यार किया जो नाइट्रिक आॅक्साइड से बना है उनका कहना है कि ये स्प्रे करोना को नाक व फेफड़ों में मारने में कारगर है। दमा के रोगियों को भी एक प्रकार के नोजल स्प्रे दिए जाते हैं, जिससे उन्हें तुरंत राहत मिलती है इस वैक्सीन से बड़ा फायदा यह होगा कि इसे देने के लिए सिरिंज (सुई) की आवश्यकता नहीं पड़ेगी, इसकी दो-दो बुँदे नाक में डाली जाएंगी जो सिर्फ एक बार ही दी जाएगी, इसके कामयाब होते ही दुनिया से कोरोना का भय दूर हो जाएगा, कोई भी व्यक्ति इसे स्वयं ले सकेगा, भविष्य इस प्रकार के स्प्रे, नेजल स्प्रे व इनहेलर भी आने की संभावना है, जिससे जिस भी व्यक्ति को लगेगा कि उसे करोना है। वो डायरेक्ट इस स्प्रे का प्रयोग कर सकेगा क्योंकि यह नाक के द्वारा सीधे फेफड़ों में पहुंचती है, तो इसका प्रभाव भी तुरंत आ जाता है। सब कुछ ठीक रहा तो अगले कुछ महीने में हमे करोना से लड़ने का एक सफल व प्रभाव हथियार मिल जाएग।