"नाश्ते का महत्व" पर आर्य गोष्ठी सम्पन्न





धनसिंह—समीक्षा न्यूज

गाजियाबाद। केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के तत्वावधान में "नाश्ते का महत्व" विषय पर ऑनलाइन आर्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। यह कोरोना काल मे 215 वां वेबिनार था।

डॉ. करुणा चांदना ने कहा कि रात भर के ब्रेक के बाद नाश्ता शरीर को शक्ति देने का काम करता है। हमें नाश्ते के महत्व को समझना चाहिए। आजकल के कोरोना काल मे हल्का व पौष्टिक नाश्ता करना चाहिए।रेडीमेड जंक फूड से बचना चाहिए ये स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। अंकुरित दाल दलिया,खिचड़ी फलाहार स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। यदि हमारा नाश्ता ठीक व समय पर होगा तो हमारी काम करने की ऊर्जा सारा दिन बनी रहेगी।

केंद्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने कहा कि सात्विक आहार जीवन को उत्तम बनाते है, अंडा,मांसाहार मानव शरीर के प्रतिकूल है,हमें शाकाहार को अपनाना चाहिए। जैसा कहा है जैसा खाएंगे अन्न वैसा बनेगा मन। व्यक्ति का खान पान उसके विचार, स्वास्थ्य व शरीर पर प्रभाव डालता है।

मुख्य अतिथि अनिता रेलन व अध्यक्ष युवा नेता विकास गोगिया ने भी व्यक्ति के खान पान व दिनचर्या पर प्रकाश डाला।

केंद्रीय आर्य युवक परिषद उत्तर प्रदेश के महामंत्री प्रवीण आर्य ने कहा कि सात्विक आहार सात्विक विचारों का निर्माण करते है।

गायिका संगीत आर्या, दीप्ति सपरा, प्रवीना ठक्कर, जनक अरोड़ा, रवीन्द्र गुप्ता, डॉ रचना चावला, मधु खेड़ा आदि ने भजन सुनाये।

इस अवसर पर मुख्य रूप से आचार्य महेन्द्र भाई, आनन्द प्रकाश आर्य, सौरभ गुप्ता, नरेश खन्ना, नरेंद्र आर्य सुमन, सुदेश आर्या, राजेश मेंहदीरत्ता, आस्था आर्या, पुष्पा चुघ आदि उपस्थित थे।