असम—केरल छोड़ पांडिचेरी, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में भाजपा ने किया नया मुकाम हासिल


जितेन्द्र 'इंसान'    

समीक्षा न्यूज   

​दिल्ली। कोरोना महामारी के दौरान भारत के पांच राज्यों असम, केरल, पांडिचेरी,तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल में हुए राज्य सरकारों के चुनाव का 2 मई  को परिणम आ गया।

असम में 126 सीटो पर चुनाव हुए जिसमें बीजेपी 60 सीट, आईएनसी 29 सीट, एआईयू​डीएफ 16 सीट, एजीपी 09 सीट, बीपीएफ 04 सीट, अन्य पार्टियां 08 सीट से जीती है। वहीं 2016 के चुनाव मेें असम में बीजेपी 60 सीट और आईएनसी 26 सीटें जीती थी।

केरल में 140 सीटो पर चुनाव हुए जिसमे सीपीआई (एम) 62 सीट, आईएनसी 21 सीट, सीपीआई 17 सीट, आईयूएमएल 15 सीट, केईसी (एम) 5 सीट, अन्य पार्टिया 20 सीट से जीती है। वहीं 2016 के चुनाव मेें केरल में बीजेपी के 1 सीट और आईएनसी 22 सीटें ​जीती थी।

पांडिचेरी में 30 सीटो पर चुनाव हुए जिसमें एआईएनआरसी 10 सीट, बीजेपी 06 सीट, डीएमके 06 सीट, आईएनसी 02 सीट, अन्य पार्टिया 06 सीट से जीती है। वहीं पांडिचेरी के 2016 के चुनाव में बीजेपी के 0 सीट और आईएनसी 15 सीटें जीती थी।

तमिलनाडु में 234 सीटों पर चुनाव हुए जिसमें डीएमके 133 सीट, एआईएडीएमके 66 सीट, आईएनसी 18 सीट, पीएमके 05 सीट, बीजेपी 04 सीट, वीसीके 04 सीट, सीपीआई 02 सीट, सीपीआई (एम) 02 सीट से जीती है। वहीं 2016 के चुनाव में बीजेपी के 0 सीट और आईएनसी 08 सीटें जीती थी।

पश्चिम बंगाल मेें 294 में से 292 सीटो पर चुनाव हुए जिसमें एआर्ईटीसी 213 सीट, बीजेपी 77 सीट से जीती है। वहीं 2016 के चुनाव में बीजेपी 03 और आईएनसी 44 सीटें जीती थी।

कुल मिलाकर कहा जाय तो भाजपा ने असम और केरल राज्य को छोड़ पिछले चुनावों से पांडिचेरी में 06 सीट, तमिलनाडु में 04 सीट और पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 74 सीट अधिक जीत दर्ज की और इतिहास रचा।