"यज्ञ पर्व प्रकाश" का विमोचन


धनसिंह—समीक्षा न्यूज  

व्यक्ति के संस्कार राष्ट्र निर्माण की नींव हैं -डॉ.अशोक कुमार चौहान(संस्थापक अध्यक्ष, एमिटी विश्वविद्यालय)

गाजियाबाद। एमिटी शिक्षण संस्थान के संस्थापक अध्यक्ष डॉ.अशोक कुमार चौहान ने कहा कि संस्कारों का जीवन मे अपार महत्व है,यही व्यक्ति की समाज में पहचान करवाते हैं और राष्ट्र निर्माण का कार्य करते हैं। यह जीवन में नींव का काम करते हैं।डॉ.अशोक कुमार चौहान व डॉ. अमिता चौहान ने वेदों से चुने हुए मंत्रो की पुस्तक "यज्ञ पर्व प्रकाश" का ऑनलाइन विमोचन किया। उन्होंने जोर देकर कहा कि वैदिक मंत्रों में अपार शक्ति होती है हमें इन मंत्रों के भावार्थ को भी समझना चाहिए।आर्य समाज के संस्थापक महर्षि दयानंद सरस्वती ने वेदों को पुनर्स्थापित किया व उसके सही स्वरूप से परिचय करवाया।

एमिटी की चेयरपर्सन डॉ अमिता चौहान ने कहा कि नारी शक्ति को यथोचित सम्मान महर्षि दयानंद ने ही दिया।महिला जगत उनका उपकार नहीं भूल सकता।पुस्तक लेखक इंदु चौहान ने कहा कि यह पुस्तक सरल शब्दों में वेद मंत्रों को प्रिय बनायेगी।कार्यक्रम की अध्यक्षता समाजसेवी मंजीतसिंह चौहान ने की।कु.समाया व समारा ने सुंदर भजन प्रस्तुत किये। 

एमिटी शिक्षण संस्थान के निदेशक आनन्द चौहान व आर्य नेता अजय चौहान ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

वैदिक विद्वान डॉ जयेन्द्र आचार्य ने कोरोना काल में खुश रहने का संदेश दिया।डी ए वी मैनेजिंग कमेटी के सचिव अजय सहगल ने कुशल संचालन किया।

प्रमुख रूप से केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य,प्रवीण आर्य (महामंत्री,उत्तर प्रदेश),मृदुला चौहान,धर्मपाल आर्य,विनय आर्य,डॉ अतुल चौहान,असीम चौहान,रोहित चौहान,संध्या चौहान आदि उपस्थित थे।