कोरोना काल में एनएसएस की भी रही अहम भूमिका


समीक्षा न्यूज  

गाजियाबाद। विश्व में कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने बहुत ही बुरा प्रभाव डाला है, लेकिन इस दौरान राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवकों, नोडल अधिकारियों, कार्यक्रम अधिकारियों एवं कार्यक्रम समन्वयकों एवं राज्य रासेयो अधिकारी व क्षेत्रीय निदेशक रासेयो, लखनऊ के साथ मिलकर जमीनी स्तर पर जो कार्य किये हैं वो काबिले तारीफ हैं। निश्चित तौर पर भारत सरकार इन सभी कोरोना वारियर्स के काम को सल्यूट  करती है, उनकी पीठ थपथपाती है और उनसे पुनः आवाह्न करती है कि वे लगातार इस कार्य में अपना योगदान देते रहें तथा 21 जून, 2021 विश्व योग दिवस में भी अपना योगदान सुनिश्चित करें और इसी तरह अग्रिम भूमिका में समाज के काम आते रहें।

    उक्त उद्गार श्रीमती उषा शर्मा (आईएएस), सचिव, भारत सरकार, युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय, नई दिल्ली द्वारा आयोजित समीक्षा बैठक के अवसर पर व्यक्त किये गए। राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित इस समीक्षा बैठक में भारत सरकार के संयुक्त सचिव (युवा कार्यक्रम), भारत सरकार, युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय श्री असित सिंह, रासेयो निदेशक श्री जीतेन्द्र चड्ढा व रासेयो कार्यक्रम सलाहकार, निदेशालय, नई दिल्ली, डॉ. कमल कुमार कर भी उपस्थित रहे। सचिव उषा शर्मा ने उत्तर प्रदेश एवं उत्तराखंड राज्य में राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा लॉकडाउन के दौरान किये जा रहे जागरूकता कार्यक्रम एवं स्वयंसेवकों द्वारा प्रत्यक्ष रूप से चलाये जा रहे मैदानी कार्यक्रमों की प्रशंशा की एवं आमजन को कोरोना वायरस से बचाने  के लिए निरंतर कार्य करने के लिए आग्रह किया। बैठक में सर्वप्रथम क्षेत्रीय निदेशक रासेयो, लखनऊ डॉ. अशोक कुमार श्रोती, उत्तरप्रदेश एवं उत्तराखंड में रासेयो द्वारा कोरोना महामारी में होने वाली विभिन्न गतिविधियों से सचिव भारत सरकार से अवगत कराया। जिसके अन्तर्गत मास्क बैंक, कोविड-19 के अनुरूप व्यवहार के लिए प्रमाण पत्र (ई-शपथ), वैक्सीनेशन में किये गये सहयोग, एन.एस.एस. के मुस्कराएगा इंडिया, आर वी आर एस नं0 6390905002 एवं उत्तराखण्ड में आंगन की पाठ्शाला के सफल संचालन के बारे में चर्चा की गयी। इसके पश्चात दोनों राज्यों के राज्य रासेयो अधिकारियों ने अपने राज्य में किये गए कार्यों का विवरण प्रस्तुत किया। समीक्षा बैठक में दोनों राज्यों रासेयो कार्यक्रम समन्वयक, जिला नोडल अधिकारी, चयनित श्रेष्ठ कार्य करने वाले कार्यक्रम अधिकारी व रासेयो स्वयंसेवकों के द्वारा किये गए कार्यों को सचिव भारत सरकार के समक्ष साझा किया, जिनकी भूरी -भूरी प्रशंशा सचिव भारत सरकार श्रीमती उषा शर्मा द्वारा की गयी। 

चौ. चरण सिंह विश्वविद्यालय के रासेयो कार्यक्रम समन्वयक डा वीरेंद्र सिंह और डीएनओ योगेंद्र प्रसाद सक्सेना भी उपस्थित रहे। गाज़ियाबाद के एम.एम.एच. कॉलेज की रासेयो कार्यक्रम अधिकारी आरती सिंह भी इस बैठक का हिस्सा रहीं। उन्होंने बताया कि कैसे कॉलेज के स्वयंसेवकों की टीम फाइट अगेंस्ट कोरोना ने इस दौर में निरंतर समाज सेवा की। स्वयंसेवकों ने ज़रूरतमंदों को खाद्य पदार्थ व मास्क वितरण के साथ ही कोविड अनुरूप व्यवहार, कोविड वैक्सीनेशन और कोरोना मरीजों के साथ भेदभाव ना हो, इसको लेकर आमजन को जागरूक किया। कई स्वयंसेवकों ने खुद वैक्सीन लगवाने के बाद  वीडियो के माध्यम से अपना सकारात्मक अनुभव साझा किया। आरती जी का कहना है कि हम यह प्रयास लगातार जारी रखेंगे क्योंकि राष्ट्रीय सेवा योजना का ध्येय वाक्य मैं नहीं आप, नि:स्वार्थ सेवा की आवश्यकता का समर्थन करता है।

प्रेषक

कैफ, रासेयो मीडिया प्रभारी

एम०एम०एच कॉलिज ग़ाज़ियाबाद