.................लोग है !

 तू अपनी खूबियां ढूंढ,

कमियां निकालने के लिए तो

                                    लोग है !


अगर रखना ही है कदम तो आगे रख,

पीछे खींचने के लिए तो

                                    लोग है !


सपने देखने ही है तो ऊंचे देख,

नीचा दिखाने के लिए तो

                                    लोग हैै !


अपने अंदर जुनून की चिंगारी भड़का,

जलने के लिए तो

                                     लोग हैै !


अगर बनानी है तो यादें बना,

बातें बनाने के लिए तो

                                   लोग है !


प्यार करना है तो खुद से कर,

दुश्मनी करने के लिए तो

                                    लोग है !


रहना है तो बच्चा बनकर रह,

समझदार बनाने के लिए तो

                                    लोग है !


भरोसा रखना है तो खुद पर रख,

शक करने के लिए तो

                                    लोग हैै !


तू बस सवार ले खुद को,

आईना दिखाने के लिए तो

                                    लोग है !


खुद की अलग पहचान बना,

भीड़ में चलने के लिए तो

                                    लोग है !


तू कुछ करके दिखा दुनिया को,

तालियां बजाने के लिए तो

                                    लोग हैै !!




साभार:

राकेश चौहान

जिला सूचना अधिकार

गाजियाबाद/गौतमबुद्ध नगर

उत्तर प्रदेश