एसएसपी पवन कुमार की धमाकेदार एंट्री, 45 लाख की लूट का पुलिस ने किया खुलासा


 

समीक्षा न्यूज नेटवर्क

गाजियाबाद। चेन्नई के कारोबारी से 45 लाख लूट के मामले में गाजियाबाद पुलिस ने खुलासा करते हुए हापुड़ के पूर्व विधायक गजराज सिंह के बेटे सतेंद्र सिंह उर्फ बॉबी समेत 11 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस लाइन में आयोजित प्रेसवार्ता में एसपी सिटि प्रथम निपुण अग्रवाल ने बताया कि एक करोड़ रुपए को डेढ़ गुना या दुगना करने का लालच देकर कारोबारी आनंद के कथित चाचा दीपक पलटा ने अपने आधे दर्जन साथियों के साथ मिलकर पहले ठगने का प्रयास किया। ठगी में असफल होने के बाद दीपक पलटा ने एक पूर्व विधायक के बेटे बॉबी और अरविंद त्यागी के साथ लूट का पूरा प्लान बनाया। प्लान बनाने के बाद उन्होंने लूटपाट करने वाले एक गैंग से सपर्क कर चार लुटेरों को अपनी साजिश में शामिल कर लिया। पुलिस से बचने के लिए दीपक ने लुटेरों से खुद पर हमला भी करवा लिया। पुलिस ने इनके पास से लूटी गई रकम में से 38.30 लाख रुपये, घटना में प्रयुक्त कार, तीन तमंचे व पांच कारतूस बरामद किए हैं। आरोपितों ने चावल कारोबारी के नंबर दो के एक करोड़ रुपये को नंबर एक का कराने का झांसा देकर यहां बुलाया था और उनसे लूट की वारदात को अंजाम दिया। पुलिस ने पीड़ित की तहरीर पर डकैती का मामला दर्ज किया है। इस मामले में अभी तीन आरोपित फरार हैं, पुलिस उनकी तलाश में जुटी है। इस नेटवर्क में अन्य लोगों के नाम भी प्रकाश में आ सकते हैं, पुलिस अभी मामले की जांच कर रही है। वहीं पुलिस पैसे की सोर्स का भी पता लगा रही है, पुलिस आयकर विभाग को भी जानकारी देगी। एसएसपी ने वारदात का पदार्फाश करने वाली टीम को 25 हजार रुपये नकद इनाम की घोषणा की है। बृहस्पतिवार को पुलिस लाइन में आयोजित प्रेसवार्ता में एसएसपी पवन कुमार व एसपी सिटी प्रथम निपुण अग्रवाल ने बताया कि पकड़े गए आरोपित आंध्रप्रदेश निवासी विनय तेजा, गुरुग्राम डीएलएफ निवासी दीपक पलटा, दिल्ली इस्ट पटेलनगर निवासी आशीष भसीन, दिल्ली बुराड़ी निवासी सुरेंद्र पाल उर्फ डॉ. सतपाल सिंह, दिल्ली बसंतकुंज निवासी आयुष, रामप्रस्थ निवासी विशाल मित्तल, आर्यनगर निवासी मनोज शर्मा, हापुड़ निवासी राजीव त्यागी, अरविंद त्यागी, सतेंद्र सिंह उर्फ बोबी व अरविंद की पत्नी रीना त्यागी शामिल हैं। सतेंद्र सिंह उर्फ बोबी हापुड़ से चार बार विधायक रहे गजराज सिंह का बेटा है और पूर्व में जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव लड़ चुका है। इस पर पूर्व में विभिन्न थानों में सात आपराधिक मामले दर्ज हैं। जबकि इस मामले में अभी राजकुमार उर्फ आशीष शर्मा, गौरव चौधरी समेत तीन आरोपित फरार हैं। इसपूरे प्रकरण के मुख्य सूत्रधार विनय तेजा व दीपक पलटा हैं जबकि लूट के मुख्य सूत्रधार अरविंद त्यागी व सतेंद्र सिंह हैं। मनोज शर्मा लिंकरोड थाने से एक फर्जी लोन के मामले में जेल गया था, वर्तमान में वह पैरोल पर बाहर आया हुआ था। एसपी सिटी प्रथम निपुण अग्रवाल ने बताया कि चेन्नई के चावल कारोबारी को एक करोड रुपये को नंबर एक में तब्दील कराने थे। इसके लिए उनके संपर्क में आंध्रपदेश का रहने वाला विनय तेजा संपर्क में आया। विनय ने उनकी मुलाकात दीपक पलटा, दीपक पलटा ने आशीष भसीन, आशीष ने आयुष, आयुष ने डॉ. सतपाल, सतपाल ने विशाल, विशाल ने मनोज, मनोज ने राजकुमार और राजकुमार ने सतेंद्र व अरविंद से कराई। सभी ने उन्हें भरोसा दिया कि वह इस रकम को कुछ समय इस्तेमाल करने के बाद उनके खाते में आरटीजीएस के माध्यम से ट्रांसफर करा देंगे। झांसा दिया कि वह कुछ समय के लिए इस रकम को कहीं निवेश करेंगे और एक करोड़ रुपये के बदले में उनके खाते में 1.15 करोड़ रुपये ट्रांसफर करेंगे। इसी लालच में वह पैसा लेकर उनके बताए स्थान पर आ गए और आरोपितों ने लूट की वारदात को अंजाम दे दिया। सीओ कविनगर अंशु जैन ने बताया कि आरडीसी के दुर्गा टावर में अधिवक्ता अतुल त्यागी के कार्यालय में जब पीड़ित आनंदम को बुलाया गया तो यहां अरविंद त्यागी व राजीव त्यागी पहले से मौजूद थे।आनंदम के पहुंचने के बाद सतेंद्र सिंह उर्फ बोबी, राजकुमार व गौरव चौधरी पीछे से आए और तमंचे की बट से सिर पर वार करने लगे। आरोपित बैग लूट कर फरार हो गए। इस दौरान घटनास्थल पर अन्य आरोपित भी थे। घटना होते ही सभी फरार हो गए।