अष्टांगयोग पर गोष्ठी संपन्न


समीक्षा न्यूज संवाददाता

सर्वागीण विकास का मार्ग है अष्टांगयोग -योगाचार्य रजनी चुघ

गाजियाबाद। केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के तत्वावधान में "अष्टांगयोग का उद्देश्य" विषय पर ऑनलाइन गोष्ठी का आयोजन किया गया । यह कोरोना काल में 274 वां वेबिनार था ।

योगाचार्य रजनी चुघ ने कहा कि अष्टांगयोग व्यक्ति के सर्वांगीण विकास का मार्ग है, इससे ही प्रभु मिलन कि राह आसान होती है । उन्होंने बताया कि महर्षि पतंजलि द्वारा योग के 8 अंगों यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान, समाधि की जानकारी दी गई है । यानी कि ध्यान साधना करते हुए स्वस्थ शरीर व अपने व्यवहार को अच्छा बनायें साथ ही अपने कर्तव्य का पालन करें। तभी साधक साधना के उच्च शिखर पर पहुंच सकता है । जिससे सुन्दर व व्यवस्थित समाज की स्थापना हो सके।

केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने कहा कि वैदिक संस्कृति का ज्ञान सर्वश्रेष्ठ है बस इसे जीवन में धारण करने की आवश्यकता है ।

राष्ट्रीय मंत्री प्रवीण आर्य ने योग गीत सुनाकर प्रेरित किया ।

मुख्य अतिथि दया आर्या व अध्यक्ष संगीता आर्या ने योग की महत्ता पर बल दिया।

गायक रवीन्द्र गुप्ता, उर्मिला आर्या,दीप्ति सपरा,प्रवीन आर्या, प्रवीना ठक्कर,रजनी गर्ग,ईश्वर देवी,सुशांता अरोड़ा,कृष्णा भाटिया, संध्या पांडेय, उषा आहूजा, मृदुला अग्रवाल, सुमित्रा गुप्ता आदि ने मधुर गीत सुनाये ।

हापुड़ से आनन्द प्रकाश आर्य, देवेन्द्र गुप्ता(इंदिरापुरम), महेन्द्र भाई, यशोवीर आर्य,आस्था आर्या,राजेश मेहंदीरत्ता, अमरनाथ बत्रा,डॉ आर के आर्य, के के यादव,सुषमा गुगलानी आदि उपस्थित थे ।