"हड्डियों में घिसावट" पर आर्य गोष्ठी सम्पन्न


धनसिंह—समीक्षा न्यूज   

धूप व दूध हड्डियों के लिए अत्यंत आवश्यक -डॉ. रमाकांत गुप्ता(हड्डी रोग विशेषज्ञ)

गाजियाबाद। केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के तत्वावधान में "हड्डियों की घिसावट" पर ऑनलाइन आर्य गोष्ठी सम्पन्न हुई।यह कोरोना काल में 288 वां वेबिनार था।

डॉ. रमाकांत गुप्ता(पूर्व विभागाध्यक्ष,हिंदूराव अस्पताल) ने कहा कि 50 वर्ष की आयु के बाद हड्डियों का भुरना या घिसावट प्रारंभ हो जाती है। व्यक्ति को उठते बैठते पता ही नहीं चलता कब हड्डी टूट जाती है व्यक्ति दूसरों पर निर्भर हो जाता है यह स्थिति कष्ट दायक हो जाती है।इससे बचाव के लिए आवश्यक है कि दूध प्रतिदिन पीयें इसमें कैल्शियम की कमी पूरी हो जायेगी।हरी सब्जियों का सेवन, पनीर,प्रतिदिन हल्का व्यायाम, बचपन की स्कूल वाली पीटी लाभकारी रहेंगे।सुबह 7 से 11 के बीच धूप अवश्य ले इनसब से हड्डियों को मजबूती मिलेगी। पुरानी गाड़ी है मेंटिनेंस का ध्यान तो स्वयं रखना ही होगा तभी लंबे समय तक चल पायेंगे।

केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने कहा कि कोई समस्या आते ही डॉक्टर के परामर्श से ही दवाइयों का सेवन करना चाहिए।

राष्ट्रीय मंत्री प्रवीण आर्य ने कहा कि दैनिक योगाभ्यास और सन्तुलित आहार करने से हम शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं,इसके लिए आप प्रतिदिन प्रातः 5-30 से 7 बजे तक निःशुल्क ऑनलाइन योग सत्र से जुड़कर लाभान्वित हो सकते हैं।

मुख्य अतिथि ओमप्रकाश नागिया व अध्यक्ष गोपाल आर्य ने जीवन शैली सुधारने पर बल दिया उन्होंने कहा कि गाय का दूध सर्वोत्तम है।

गायिका प्रवीन आर्या,प्रवीना ठक्कर(मुंबई),रजनी चुघ,रजनी गर्ग,रचना वर्मा (अमृतसर), सुखवर्षा सरदाना(देहरादून),मधु खेड़ा,डॉ. रचना चावला आदि ने मधुर भजन सुनाये।

प्रमुख रूप से ओम सपरा,करुणा चांदना,कर्नल विपिन खेड़ा,महेन्द्र भाई,गोपाल जैन,कैप्टन अशोक गुलाटी,दया आर्या आदि उपस्थित थे।