जमीयत उलेमा ए हिन्द के कार्यकर्ताओ ने मौलाना कलीम सिद्दीकी की रिहाई को लेकर लोनी उपजिलाधिकारी शुभांगी शुक्ला को ज्ञापन सौंपा




साजिद खान

जमीयत उलेमा ए हिन्द के कार्यकर्ताओं ने मौलाना कलीम सिद्दीकी की रिहाई को लेकर लोनी उपजिलाधिकारी शुभांगी शुक्ला को ज्ञापन सौंपा जमीयत उलेमा ए हिन्द के जनरल सेकेट्री मौलाना फैज़ुद्दीन आरिफ ने लोनी उपजिलाधिकारी को बताया की मौलाना कलीमुद्दीन सिद्दीकी साहब न केवल मुस्लिम समुदाय के लोगो के बीच खास पहचान रखते है बल्कि अन्य समुदाय के लोगो के मध्य भी काफ़ी खास लोकप्रिय है समाज का हर वर्ग के लोगों के मध्य मौलाना साहब को आपसी भाईचारे को क़याम करने व इस्लामिक शिक्षा ज्ञान रखने उसके लिए रात दिन बिना किसी लालच के कार्य करने के लिए जाने जाते है मौलाना साहब ने जहाँ एक और इस्लाम की शिक्षा को आपसी भाईचारे एवं मोहब्त से फैलाने का कार्य किया है वही दूसरी औऱ समाज के हर वर्ग की विभिन्न समस्याओं को भी उजागर कर उनमें सुधार का कार्य किया है  इसलिए मौलाना साहब समाज के हर वर्ग के लिए एक आदर्श है मुस्लिम समुदाय के अलावा भी अन्य सभी समुदाय के लोग भी इस बात के गवाह है कि मौलाना साहब ने अपने पूरे जीवन मे कभी किसी भी समुदाय के खिलाफ न तो तीखी टिप्पणी की और न ही कभी किसी समाजिक बुराई में शामिल रहे मौलाना साहब का पूरा जीवन एक आदर्श व बेदाग जीवन रहा है अगर मौलाना साहब ने भारतीय सविधान के अनुच्छेद 25 ( अंत करण की औऱ धर्म को अबाध रूप से मानने आचरण करने प्रचार करने की स्वंतत्रता के अंतर्गत रहकर अपने इस्लाम धर्म के प्रति आस्था रखते हुए इसके प्रचार प्रसार व सेवार्थ भाव से का काम किया है तो मौलाना साहब ने कोई अनैतिक कार्य नही किया बल्कि भारतीय सविधान द्वारा अपने अधिकारों का ही उपयोग किया है जिसके लिए उन्हें मुस्लिम होने के कारण अथवा प्रचार प्रसार करने से रोका जाना साफ़ साफ़ भारतीय सविधान के अनुच्छेद 25 का उलंघन करना है व मौलाना साहब के खिलाफ ए-टी- एस द्वारा की गई कार्यवाही गलत है मौलाना साहब के गिरफ्तारी से मुस्लिम ही नही बल्कि अन्य कई समुदाय के लोगों   में भारी रोष है जिसके चलते आज हम सभी कार्यकर्ताओ ने आपको मौलाना साहब की रिहाई के लिए ज्ञापन सौपा है लोनी उपजिलाधिकारी शुभांगी शुक्ला ने सभी बातों को सुनकर ज्ञापन स्वीकार किया और जमीयत उलेमा ए हिन्द के सभी कार्यकर्ताओ को आश्वासन दिया कि जल्द से जल्द कार्यवाही कर मौलाना साहब को रिहा किया जाएगा।

साभार—साजिद खान