"डिजिटल बैंकिंग धोखाधड़ी एवं समाधान" पर गोष्ठी सम्पन्न



धन​सिंह—समीक्षा न्यूज  

डिजिटल बैंकिंग में धोखाधड़ी से बचाव करें -अनिता रेलन

वीर बंदा वैरागी के बलिदान से युवा प्रेरणा लें -राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य

गाजियाबाद। केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के तत्वावधान में "डिजिटल बैंकिंग धोखाधड़ी व बचाव" व "वीर बंदा वैरागी जयंती" पर ऑनलाइन गोष्ठी का आयोजन किया गया।

केनरा बैंक की प्रबंधक अनिता रेलन ने कहा कि छोटी छोटी सावधानियां बरतने से हम धोखाधड़ी से बच सकते हैं। माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी चाहते है कि डिजिटल बैंकिंग को बढ़ावा दिया जाये,लेकिन कुछ सावधानियां भी रखनी आवश्यक है।अपने पासवर्ड व ओटीपी को किसी से शेयर न करें।उन्होंने कहा की विमुद्रीकरण के बाद पूरा देश डिजिटलीकरण में ट्रांसफार्म हो गया है डिजिटल होना क्या होता  है,उसके बारे में उन्होंने विशेष जानकारी दी डिजिटल एक प्रकार से इलेक्ट्रॉनिक्स की एक शाखा है जो सिर्फ 2 डिजिट जीरो और 1 पर काम करती है और उन्होंने बताया संचार माध्यमों व सूचना प्रौद्योगिकी में हुए तकनीकी विकास के चलते हमारी संपूर्ण बैंक की व्यवस्था मोबाइल के छोटे से ऐप में सिमट कर रह गई है,आज इन ऐप के जरिए कोई भी व्यक्ति बैंक में खाता खुलवाने से लेकर बिलों का भुगतान लोन का आवेदन बैंकिंग संबंधित सभी कार्य यूं ही  चुटकियों में पूरा कर सकता है और यही सब व्यवहार अब डिजिटल बैंकिंग  बन गया है।

परिवर्तन प्रकृति का नियम है अतः हमें भी परिवर्तन की आंधी के साथ बहना है पर उन झंझावातों से  बचते हुए अपने आप को बचाते हुए जो अंदर तक आमूलचूल झकझोर देता है हालांकि डिजिटल बैंकिंग के द्वारा आम आदमी की जिंदगी बहुत ज्यादा आसान हो गई है,पर हमें अपनी सेवाएं देते हुए अत्यधिक सतर्कता व सुरक्षा के साथ जिम्मेदारी निभानी होगी हालांकि डिजिटल करण का प्रयोग बहुत पहले से चलता आ रहा है एटीएम डेबिट कार्ड क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन खरीदारी नेट बैंकिंग जिसने कोविड-19 की प्राकृतिक आपदा में अहम भूमिका निभाई, शिक्षा प्रणाली हो या योग कक्षाएं हो प्रार्थनाएं हो डॉक्टर की अपॉइंटमेंट उनकी देखरेख में सब कुछ  होता चला गया।पैसे ट्रांसफर करने हो किसी भी व्यक्ति से मिलने के लिए नहीं जा पाने पर फोन से वार्तालाप हो सब सहज होता गया डिजिटल इंडिया भारत सरकार द्वारा चलाए जाने वाला वह कार्यक्रम है जिसका उद्देश्य है सशक्त समाज और अर्थव्यवस्था को एक डिजिटल रूप देना।उसका उद्देश्य कृषि व्यापार मंडी भाव सरकारी योजनाओं की जानकारी हम इंटरनेट के जरिए हर जगह देश और गांव में पहुंचा पाए।उसका उद्देश्य था हर नागरिक के पास स्मार्टफोन होना।डिजिटल बैंकिंग में मोबाइल आपका वैलेट है इसके अलावा पीओएस मशीन आरटीजीएस एनईएफटी एंपावर उसी श्रृंखला की अगली कड़ी में आता है जो इसकी विशेषताएं अपने में समेटे हुए हैं।विज्ञान के इस अद्भुत चमत्कार ने घर-घर में पैंठ जमा ली है और हम  अपने आप को उस मायावी तारों के जाल में फंसा हुआ महसूस करते हैं जिससे निकलना असंभव सा है डिजिटल बैंकिंग करते वक्त हमें कुछ सावधानियां बरतनी होगी 

अपनी और ग्राहकों की लापरवाही के कारण ग्राहकों की गोपनीय सूचनाओं के चोरी होने वह उसे गलत व्यक्तियों के हाथ में पड़ने का डर बना रहता है वित्तीय सूचनाओं का चोरी होना,कार्ड का क्लोन तैयार करना,चेक चोरी होना,नकली चेक बनाना, पिन का गलत इस्तेमाल,आए दिन समाचार पत्रों में इस तरीके के मामले आते ही रहते हैं और वह हमें इन मामलों के द्वारा आगाह करते रहते हैं कि हम ऐसी गलती ना करें समय समय पर जागरूकता अभियान हमारे बैंकों के द्वारा,सरकारी संस्थाओं के द्वारा समय-समय पर चलाये जाते है और मीडिया के द्वारा भी हर बार यह कहा जाता है कि अपना सीवीवी नंबर अपना पासवर्ड किसी से साझा ना करें 

साइबर कैफे में डिजिटल बैंकिंग ना करें।एंटीवायरस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कोई भी ट्रांजेक्शन करने से पहले सुनिश्चित कर लें 

कंप्यूटर में एंटीवायरस सॉफ्टवेयर मौजूद है या नहीं हैकर्स अधिकतर वायरसों के जरिए आप के खातों को हैक कर लेते हैं खाते की राशि अपने खाते में ट्रांसफर कर लेते हैं।आप कभी भी अपना पासवर्ड किसी से साझा न करें उसे याद रखें या कहीं और लिख कर रखें लेकिन कंप्यूटर या मोबाइल पर इसे सेव ना करें।लॉटरी व पुरस्कारों के झांसे से बचें अति शीघ्रता से पैसे कमाने की लालच से बचें क्योंकि कोई भी कंपनी कोई भी व्यक्ति एस एम एस के द्वारा आप को रातों-रात अमीर नहीं बना सकता इसलिए इस बात को ध्यान रखें । बैंक का अधिकारी बनकर जो ठगने आ जाते हैं तो उनसे भी सावधान रहें इसमें कई तरीके के और भी धोखाधडी होती है 

फिशिंग यह एक प्रचलित धोखाधड़ी में आता है ईमेल के माध्यम से किया जाने वाला ऐसा साइबर क्राइम जिससे अपराधी द्वारा पीड़ित व्यक्ति को फर्जी ईमेल टेलीफोन टेक्स्ट आदि के जरिए संपर्क किया जाता है अटैक कर मालीशियस लिंक या अटैचमेंट डिस्ट्रीब्यूट करने के लिए इ-मेल का उपयोग करते हैं साइबर क्रिमिनल्स में        फिशिंग अत्यंत लोकप्रिय है क्योंकि कंप्यूटर के डिफेंस को तोड़ने की कोशिश करने के बजाए इस ईमेल पर माल मालीशियस लिंक भेज कर किसी को फसाना आसान सा हो जाता है इसलिए ऐसा करते हैं इसी में सोशल नेटवर्क एस एम एस मैसेजेस आदि शामिल हैं 

इसके अलावा पोंजी स्कीम

 जो एक ऐसा घोटाला है जो असाधारण उच्च रिटर्न का वादा करके निवेशकों को लुभाता है यह एक प्रकार की धोखाधड़ी है जो मौजूदा निवेशकों को इन्वेस्टर से एकत्र किए धन का एक बड़ा हिस्सा भुगतान कराता है और आगे चलकर यह रिटर्न काल्पनिक हो जाती है और पूरी स्कीम इन्वेस्टर्स का पैसा लेकर डूब जाती है अतः ऐसी योजनाओं में इन्वेस्ट करने से पहले जांच लें योजना सेबी के पास रजिस्टर्ड है या नहीं इसमें और भी ध्यान देने योग्य बातें हैं।अपना ओटीपी किसी से साझा ना करें ,अपना कार्ड नंबर  सीवीवी नंबर पिन किसी को ना दे ना ही कभी किसी फोन कॉल एसएमएस कार्ड का विवरण साझा करें यदि आप एक पुराने कार्ड का उपयोग कर रहे हैं तो स्मार्ट चिप पहले कार्ड में अपडेट करें एटीएम का उपयोग करते समय पिन को अंकित करने से पहले कृपया की पैड को अपने हाथ से ढकने का प्रयास करें यह किसी को भी छिपे हुए कैमरे का उपयोग करके इनको रिकॉर्ड करने से रोक देगा बैंक को नए डेबिट या क्रेडिट कार्ड जारी करने के लिए अनुरोध करें यदि आपका कार्ड खो गया है तो तुरंत उसकी सूचना बैंक को दें साथ में एफ आई आर भी रजिस्टर कराएं आइंस्टीन के कथनानुसार 

 हर कठिनाई में अवसर  निहित होता है बस तलाशना मात्र होता है ,हम सब मिलकर उसे  तलाशें और सुरक्षा नियमों का पालन करते हुए सतर्क रहें।कहते हैं ना जो चौकन्ना वहीं स्याना चौकन्ना रहते ही अपनी और हम आपकी करोड़ों  लोगों की धन की हानि होने से बचा सकते हैं।

केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने कहा कि आज वीर बंदा वैरागी के जन्मदिन पर उनके बलिदान को नमन करने की आवश्यकता है । उनका जन्म 27 अक्टूबर 1670 को पुंछ, जम्मू कश्मीर में हुआ था । उन्होंने मुगल सल्तनत को कड़ी टक्कर दी और हिन्दुओ की रक्षा करते बलिदान हो गए उन्हें धर्म परिवर्तन के लिए दबाव लालच दिए गए अनेक यातनाओं के बावजूद उन्होंने हिन्दू धर्म नहीं छोड़ा।वीर बंदा वैरागी का अप्रितम बलिदान सदियों तक प्रेरणा देता रहेगा ।

मुख्य अतिथि रमा चावला व सी ए प्रवीन रेलन ने भी डिजिटल बैंकिंग पर प्रकाश डाला ।

राष्ट्रीय मंत्री प्रवीण आर्य ने कहा कि वरिष्ठ नागरिकों के लिए कार्यक्रम अत्यंत लाभकारी रहा।

गायिका प्रवीन आर्या, दीप्ति सपरा, रजनी गर्ग,रजनी चुघ, रविन्द्र गुप्ता,किरण सहगल, प्रवीना ठक्कर,सुखवर्षा सरदाना, जनक अरोड़ा ने मधुर भजन सुनाये ।