क्षेत्र की खस्ताहाल सड़कों को दुरुस्त करने की मांग को लेकर क्षेत्रवासियों ने जोंकाणी में लगाया जाम



वाचस्पति रयाल—समीक्षा न्यूज  

3 घंटे बाद मौके पर पहुंचे उपजिलाधिकारी के आश्वासन के बाद प्रदर्शनकारियों ने खोला जाम

नरेंद्र नगर। प्रताप नगर क्षेत्र की खस्ताहाल सड़कों को दुरुस्त करने की मांग को लेकर क्षेत्रवासियों ने लंबगांव-डोबरा मोटर मार्ग पर ग्राम जोंकाणी के पास सड़क पर जाम लगा दिया। पूर्व जिला पंचायत सदस्य मुरारी लाल खड़वाल के नेतृत्व में क्षेत्र के दूरदराज ग्रामीण इलाकों से भारी तादाद में ग्रामीण धरना/प्रदर्शन स्थल जोंकाणी पहुंचे। और सड़क पर ही धरना/प्रदर्शन शुरू कर जाम लगा दिया। धरना-प्रदर्शन के दौरान क्षेत्र के सामाजिक कार्यकर्ताओं ने क्षेत्र की खस्ताहाल मोटर मार्गो के लिए पीएमजीएसवाई और लोक निर्माण विभाग को जिम्मेदार ठहराया।  इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने मुरारी लाल खड़वाल के नेतृत्व में प्रदेश सरकार, पीएमजीएसवाई तथा लोक निर्माण विभाग के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी की।  लगभग 3 घंटे तक चले इस जाम में सड़क के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतारें लगी रही और यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा।  धरना स्थल पर पूर्व जिला पंचायत सदस्य और आंदोलन के संयोजक मुरारी लाल खड़वाल ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रताप नगर  विधानसभा की समस्त लिंक रोड्स खस्ताहाल हैं,बार-बार लिखा पढी़ के बाउजूद क्षेत्रवासियों की समस्याओं को हल करने की बात तो रही दूर,विभागीय अधिकारी बात सुनने की जहमत तक नहीं उठाते। कहा कि ऐसीे विकट परिस्थितियों में आज क्षेत्र की जनता को मजबूरन सड़क पर उतरने को बाध्य होना पड़ा है।  उन्होंने चेतावनी दी कि यदि 98 ग्राम पंचायतों तथा 40 क्षेत्र पंचायत वाले क्षेत्र प्रताप नगर की दुर्दशायुक्त खस्ताहाल सड़कों को दुरुस्त करने की तुरंत कार्रवाई नहीं की गई तो क्षेत्र की जनता उग्र आंदोलन को बाध्य होगी।  उदाहरण देते हुए उन्होंने बताया कि भैंगा-हलेथ मोटर मार्ग पर डेंटिंग पेंटिंग  बहुत ही घटिया किस्म की  की गई है,गैरी-कोर्दी मोटर मार्ग बेहद खस्ताहाल है जगह-जगह सड़क पर गड्ढे पड़े हैं, खाल-हलेथ व नर्सिंगधार-गैरी तथा गैरी-गोदड़ी लिंक रोड़ों की हालात बेहद नाजुक है। जिनको तत्काल दुरुस्त किया जाना जरूरी है।   लगभग 3 घंटे तक चले धरना-प्रदर्शन व जाम के बाद उप जिला अधिकारी प्रेमलाल मौके पर पहुंचे।  उप जिला अधिकारी ने पीएमजीएसवाई तथा लोनिवि के सहायक अभियंताओं को निर्देश दिए कि क्षेत्र की खस्ताहाल सड़कों को तत्काल दुरुस्त करने की कार्रवाई अमल में लाई जाए।

  उप जिला अधिकारी के आश्वासन के बाद ही आंदोलनकारियों ने धरना समाप्त किया।  मगर चेतावनी दी कि यदि क्षेत्र की खस्ताहाल सड़कों को दुरुस्त करने की तत्काल कार्रवाई अमल में न लाई गई तो क्षेत्र के लोग उग्र आंदोलन को बाध्य होंगे।