पुलिस की वर्दी रॉब गाँठने को नहीं-जनसेवा की द्योतक है: एसएसपी तृप्ति भट्ट



वाचस्पति रयाल 

समीक्षा न्यूज   

नरेंद्र नगर। मंगलवार को टिहरी जिले की एसएसपी तृप्ति भट्ट की अध्यक्षता में जिले के एकमात्र बालमित्र पुलिस थाना नरेंद्र नगर में छात्र- छात्राओं के साथ एक महत्वपूर्ण कार्यशाला का आयोजन किया गया।

  बालमित्र थाना नरेन्द्र नगर में आयोजित इस कार्यशाला में स्थानीय बालक व बालिका इंटर कॉलेज के छात्र-छात्राओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।

  कार्यशाला में छात्र-छात्राओं को चिल्ड्रन अगेंस्ट सेक्शन आफेंसेज़,विधिक कानूनी जानकारी,हेल्पलाइन नंबर, पुलिस कार्यप्रणाली, घरेलू हिंसा, यौन शोषण,गौरा शक्ति एप,एंबुलेंस,रोड एक्सीडेंट्स आदि के बारे में विस्तृत जानकारियां दी गई।

  इस मौके पर एसएसपी तृप्ति भट्ट ने छात्र-छात्राओं से कहा कि जो भी जानकारियां उन्हें दी जा रही हैं,उन्हें समझने में कोई शंका हो तो वे बेहिचक प्रश्न पर सकते हैं।

  इस पर छात्र-छात्राओं ने बेहिचक कई प्रश्न किए और एसएसपी तृप्ति भट्ट द्वारा जवाब देते हुए छात्र-छात्राओं को समझाया गया।

  एसएसपी ने छात्र-छात्राओं से कहा कि वे पुलिस की खाकी से कतई भी घबराएं अथवा डरें नहीं।

  उन्होंने कहा आज की पुलिस खाकी रौब गांठने को नहीं,जनसेवा की द्योतक है।

   एसएसपी तृप्ति भट्ट ने यह भी समझाया कि बालमित्र थानों की आवश्यकता क्यों पड़ी है।

  उन्होंने कहा आज के बच्चे कल के देश के भविष्य हैं। कहा कि अच्छे संस्कारों की शुरुआती नींव पर जिसके कदम ऊंचे हौसलों के के साथ लक्ष्य की ओर आगे बढ़ते चले जाते हैं वे ही सफलता की चोटी पर पहुंचते हैं।

   उन्होंने छात्र-छात्राओं से कहा कि सामाजिक दायित्व को निभाते हुए वे जीवन के उच्च शिखर पर कैसे पहुंच सकते हैं।

  उन्होंने कहा किसी भी घटना का निपटारा दंड नहीं है। शुरुआती दौर में भ्रांतियों को दूर कर,समझा-बुझाकर मामलों को निपटाना न सिर्फ पुलिस का काम है, बल्कि घरेलू सामाजिक परिवेश में भी मामलों का निराकरण होता आया है। और पुलिस भी यही चाहती और करती आई है। मगर जब समझाने से फर्क ना पड़े तो फिर दंडात्मक कार्रवाई बेहद आवश्यक हो जाती है।

  इस मौके पर उन्होंने बालमित्र थाने का निरीक्षण किया सभी कुछ संतोषजनक पाये जाने पर प्रसन्नता जाहिर की।

  इस मौके पर प्रोबेशन अधिकारी अविनाश भदोरिया ने बताया कि ऐसे बच्चे जिन्होंने अपने माता-पिता करोना कॉल में खो दिए, उन्हें मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत मदद दी जा रही है, उन्होंने बताया कि जिले में ऐसे 482 बच्चे चिन्हित किए गए हैं। ऐसे बच्चों को प्रतिमाह ₹3000 की मदद की जाएगी।

  कार्यशाला में पुलिस उपाधीक्षक नरेंद्र नगर रविंद्र कुमार चमोली, थाना अध्यक्ष प्रदीप पंत,चाइल्ड वेलफेयर के प्रतिनिधि सुशील बहुगुणा, छात्रा कोमल मेहरा, शिक्षक सूर्य प्रकाश जोशी तथा अन्य बच्चों ने भी परिचर्चा में हिस्सा लिया। इस मौके पर अग्निशमन अधिकारी प्रताप सिंह राणा,उप निरीक्षक शांति प्रसाद डिमरी, पूर्व पालिका उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह गुसाईं, नवनीत उनियाल सहित बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।