दिव्यांगों, जरूरतमंद, विधवाओं में राशन किट की वितरित




धनसिंह—समीक्षा न्यूज  

गाजियाबाद। आशादीप फाऊंडेशन डी-81 शहीद नगर, शालीमार गार्डन, साहिबाबाद के प्रांगण में दिव्यांगों, जरूरतमंद, विधवाओं में राशन किट 5 किलो आटा, 3 किलो चावल, 1 किलो दाल, 1 लीटर सरसों तेल, चाय की पत्ती, मसाले का वितरण निदेशक एच0 के0 चेट्टी, मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्रीमती ज्योति चेट्टी द्वारा किया गया। इस कार्यक्रम में समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता रामदुलार यादव, महिला उत्थान संस्था की राष्ट्रीय अध्यक्ष विंदू राय, सपा महिला सभा जिलासचिव शबाना भी शामिल रहे, वितरण में सहयोग कर कार्यक्रम को संबोधित किया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए संस्था के निदेशक एच0 के0 चेट्टी ने कहा कि कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण जन-साधारण की क्रय शक्ति कमजोर हो गई है, लोगों के सामने भोजन का संकट पैदा हो गया है, आशादीप फाउंडेशन शिक्षा और स्वास्थ्य पर काम कर रही है’ जरूरतमंद की सहायता, समाज के कमजोर वर्गों में प्रकाश की किरण पहुंचाना हमारा प्रयास है, महिलाएं इस संस्था में आकर खुले मन से अपनी बात रख सकती है, संस्था समाधान करने का पूर्ण प्रयास करेगी, हम बाल शोषण पर भी काम कर रहे हैं, संस्था का दायित्व है वह बाल कल्याण समिति के साथ मिलकर बच्चों की हर संभव मदद कर सके।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सपा के वरिष्ठ नेता रामदुलार यादव ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित कमजोर वर्ग के बच्चे और महिलाएं रही हैं, भारत में कुपोषण एक जटिल समस्या है, यहां आहार में पोषक तत्वों की कमी के कारण बच्चों और महिलाओं को बीमारी का दंश झेलना पड़ रहा है, भारत में हर दूसरा बच्चा कुपोषण का शिकार है तथा महिलाओं में खून की कमी की समस्या व्याप्त है, संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के अनुसार 10 लाख  बच्चों में 5 लाख असमय दम तोड़ देते हैं, विश्व में भूख में 116 देशों मंब भारत का स्थान 101 है, और हम आजादी के 75 वर्ष पूरे करने जा रहे हैं, मेरी इस मंच के माध्यम से यह मांग है कि भोजन के अधिकार को मौलिक अधिकारों में शामिल किया जाय, रामदुलार यादव ने आशादीप फाउंडेशन के सभी अधिकारियों, कर्मचारियों का धन्यवाद किया कि 50 दिव्यांगों, 50 जरूरतमंद विधवा महिलाओं को राशन किट देकर दीपावली की शुभकामना संदेश दिया। महिला उत्थान संस्था की राष्ट्रीय अध्यक्ष बिन्दू राय ने कहा कि 21वीं सदी में महिलाएं हर क्षेत्र में अपनी प्रतिभा का परिचय दे रही है, आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रही है, आप लोग अपनी बात को निर्भीकता पूर्वक सामाजिक संस्थाओं के सामने रखेंगे, शासन-प्रशासन से मांग करेंगे, तभी आपकी समस्या का निराकरण होगा, कार्यक्रम में सैकड़ों लोग लाभान्वित हुए।