गजा में कृषि मंत्री सुबोध ने उत्तराखंड आँदोलनकारियों को किया सम्मानित



वाचस्पति रयाल—समीक्षा न्यूज  

नरेंद्र नगर। मंगलवार को राज्य स्थापना दिवस के अवसर पर क्षेत्र के विधायक और प्रदेश के कृषि मंत्री सुबोध उनियाल गजा पहुंचे। गजा चौराहे पर स्थित शहीद बेलमती चौहान स्मारक पहुंचने पर उन्होंने शहीद की मूर्ति पर फूल मालाएं अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर कृषि मंत्री सुबोध उनियाल ने गजा स्थित माली प्रशिक्षण केंद्र का नाम जम्मू-कश्मीर के पुंछ राजौरी में शहीद हुए बिमाण गांव के राइफलमैन विक्रम सिंह नेगी के नाम पर रखे जाने की घोषणा की। कृषि मंत्री सुबोध उनियाल का क्षेत्र में पहुंचने पर गजा भाजपा मंडल कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया। इस मौके पर कृषि मंत्री सुबोध उनियाल ने उत्तराखंड आंदोलन में शहीद हुए शख्सियतों को याद करते हुए कहा कि राज्य निर्माण में उनकी भूमिका और संघर्ष सदैव याद किया जाता रहेगा। इस मौके पर उन्होंने सरकार की विकास परक योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि केंद्र और प्रदेश की सरकारें  सबका साथ सबका विकास की नीति पर विकास परक योजनाओं को धरातल पर उतारने का काम कर रही है। जो साफ दृष्टिगोचर हो रहा है। इस मौके पर कृषि मंत्री सुबोध उनियाल ने उत्तराखंड आंदोलनकारियों में शुमार गजा के कुंवर सिंह चौहान, विजय सिंह राणा तथा शशि भूषण भट्ट को माल्यार्पण कर सम्मानित किया। श्रद्धांजलि सभा में नगर पंचायत गजा के अध्यक्ष मीना खाती, भाजपा मंडल अध्यक्ष अरविंद उनियाल, जिला मीडिया प्रभारी गजेंद्र सिंह खाती, जोत सिंह चौहान, भगवान सिंह चौहान,गिरीश बंठवाण सहित बड़ी संख्या में लोगों ने श्रद्धांजलि अर्पित की। इससे पूर्व हुए एक अन्य कार्यक्रम में देवप्रयाग व नरेंद्रनगर के जिला अध्यक्ष हिमांशु बिजल्वाण,नगर पंचायत गजा की अध्यक्ष मीना खाती, उपाध्यक्ष टंखी सिंह नेगी, प्रगतिशील जन विकास संगठन गजा के अध्यक्ष दिनेश उनियाल, उत्तराखंड आंदोलनकारी कुंवर सिंह चौहान, विजय सिंह राणा, तहसीलदार गजा-रेनू सैनी, कानूनगो उपेंद्र राणा, वीरेंद्र सिंह चौहान, श्रीमती उषा चौहान, राजस्व निरीक्षक विनोद राणा, ग्राम प्रधान सुशील कोठारी,विजय सिंह रावत सहित बड़ी संख्या में लोगों ने गजा चौराहे पर स्थित उत्तराखंड आंदोलन में शहीद हुए बेलमती चौहान स्मारक पर माल्यार्पण व पुष्प अर्पित कर शहीद को श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर उत्तराखंड आंदोलनकारी कुंवर सिंह चौहान व विजय सिंह राणा का फूल-मालाओं से स्वागत करते हुए शाल ओढ़ा कर उनका अभिनंदन एवं स्वागत किया गया।