देश में व्याप्त विषमता को मिटाने के लिए हमें शिक्षित, स्वस्थ और आर्थिक रूप से सबल बनना होगा: एच0के0 चेट्टी/राम दुलार यादव



समीक्षा न्यूज संवाददाता

साहिबाबाद। आशादीप फाउन्डेशन डी-81 शहीद नगर के निदेशक एच0के0 चेट्टी, मुख्य कार्याधिकारी ज्योति चेट्टी जी के दूरदर्शिता पूर्ण विचार ने भोपुरा कुटी क्षेत्र जनपद गाजियाबाद में बेसहारा, जरूरतमंद, कमजोर वर्गों में शिक्षा के प्रसार के लिए, छोटे बच्चों के लिए स्कूल निर्मित किया, जिसमे 2.5 साल से लेकर 5 साल के बच्चों के पढ़ने की व्यवस्था है, विद्यालय का उद्घाटन लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट के संस्थापक/अध्यक्ष, शिक्षाविद राम दुलार यादव ने किया, शिक्षा के साथ-साथ महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सिलाई, कढाई तथा महिलाओं के प्रशिक्षण केन्द्र का उद्घाटन महिला उत्थान संस्था की राष्ट्रीय अध्यक्ष बिन्दू राय, मैडम ज्योति चेट्टी जी ने किया। कार्यक्रम में सैकड़ों बच्चों और प्रशिक्षण के लिए महिलाऐं भी उपस्थित रहीं।

आशादीप फाउन्डेशन के निदेशक एच0के0 चेट्टी ने कहा कि संस्था लगातार तीन दशक से शिक्षा, स्वास्थ्य के साथ-साथ महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सिलाई, कटिंग, कढाई का प्रशिक्षण नि:शुल्क समाज के कमजोर वर्गों में करती है, हमारा उद्देश्य है कि हम देश में व्याप्त विषमता को तभी मिटा सकते है, जब हम शिक्षित, स्वस्थ्य और आर्थिक रूप से सबल होंगें, तभी हम राजनैतिक, सामाजिक और शैक्षणिक, सांस्कृतिक समानता तथा गरिमामय जीवन जी सकते है, और समाज में सम्मान प्राप्त कर सकते है, संस्था विधवाओं, विकलांगों, अनाथ बच्चों के जीवन में प्रकाश की किरण पहुँचाने का कार्य करने के साथ  बच्चों के यौन शोषण, बाल श्रम, बाल शोषण के विरुद्ध उनमे जागरूकता पैदा कर रोकने का प्रयास करने के साथ उन्हें मुख्य धारा में लाने के लिए प्रयासरत रहती है, ऐसे कई केन्द्रों में हम प्रशासन की मदद से लोगों को सहायता प्रदान कराते है।

लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट के संस्थापक/अध्यक्ष शिक्षाविद राम दुलार यादव ने कहा कि आज हमें यहाँ आने पर गर्व का अनुभव हो रहा है कि आशादीप फाउन्डेशन के निदेशक एच0के0 चेट्टी, मुख्य कार्याधिकारी ज्योति चेट्टी ने भोपुरा कुटी साहिबाबाद में बच्चों के लिए प्रशिक्षण केन्द्र का शुभारम्भ कर महात्मा गाँधी के सपनों को साकार किया है, आशादीप फाउन्डेशन ने समाज के अन्तिम पायदान पर अभाव का जीवन जी रही जनता में शिक्षा के माध्यम से ज्ञान का प्रकाश फ़ैलाने के कार्य के साथ-साथ महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने का सफल प्रयास भी किया है, डा0 अम्बेदकर के सपनों को भी आप ने साकार किया है उन्होंने कहा है कि “शिक्षा वह शेरनी का दूध है, जो पिएगा वही दहाड़ेगा”, यहाँ महिलाओं को शिक्षित करने की व्यवस्था भी की गयी 3 बजे से 5 बजे तक उन्हें प्रशिक्षित किया जायेगा।

मुख्य कार्याधिकारी ज्योति चेट्टी ने ने आये हुए सभी मेहमानों, महिलाओं, अभिभावकों का धन्यवाद किया तथा कहा कि हमें प्रेम की ताकत से लोगों का ह्रदय परिवर्तन करना चाहिए, समाज में सद्भाव, सहयोग और भाईचारा बढ़ा कर एक-दूसरे की मदद करनी चाहिए, नफरत, द्वेश से देश, समाज और व्यक्ति का सर्वांगीण विकास सम्भव नहीं है।

महिला उत्थान संस्था की राष्ट्रीय अध्यक्ष बिन्दू राय ने गीत के माध्यम से महिलाओं को सन्देश दिया कि नारी शक्ति कमजोर नहीं है बहुत ही शक्तिशाली है, आप लोग आशादीप फाउन्डेशन में शिक्षा प्राप्त कर तथा प्रशिक्षण लेकर समाज की मुख्यधारा में आ सकती है, बस, प्रयास करने की आवश्यकता है, हिम्मत, लगन, मेहनत से सब सम्भव है।

बहन मोनिका जो सिलाई सेंटर चलाती हैं उन्होंने भी विचार व्यक्त करते हुए कहा कि महिलाओं में सेवा भाव होता है. आशादीप फाउन्डेशन उनकी मदद को यहाँ विद्यालय खोल रहा है, बहनों के लिए प्रशिक्षण केन्द्र की व्यव्स्था कर रहा है, हमें इनका हर तरह से सहयोग करना चाहिए, इस अवसर पर इंजी विन्देश्वर, धर्मेन्द्र, पूजा, स्वपना, शीलावती, नम्रता, शिखा ने कार्यक्रम को सफल बनने में पूर्ण सहयोग किया।