शिक्षा से ही समाज में व्याप्त नफ़रत समाप्त होगी: वीरेन्द्र यादव/राम दुलार यादव



समीक्षा न्यूज संवाददाता

गाजियाबाद। समाजवादी पार्टी जिला महासचिव वीरेन्द्र यादव एडवोकेट जनपद गाजियाबाद द्वारा “भगवान बुद्ध नि:शुल्क पुस्तकालय और वाचनालय आश्रम रोड मेन मार्किट नंदग्राम गाजियाबाद के लिए उच्च शिक्षा तथा उच्च सेवा की तैयारी के लिए प्रतियोगी छात्रों के लिए कई दर्जन पुस्तकें भेंट की, उन्होंने कहा कि हम, आप, सभी छात्र, छात्रों तथा प्रतियोगी छात्रों के उज्जवल भविष्य की आशा व्यक्त किया है कि जब आप सरकारी सेवा में लगे तो इसी तरह जरुरतमंद की सेवा करेंगें।

पुस्तक वितरण समारोह में लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट के संस्थापक/अध्यक्ष राम दुलार यादव ने कहा कि संस्था के दो दशक से अधिक समय से शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में कार्यरत अब तक 6 पुस्तकालय नि:शुल्क, वाचनालय के माध्यम से शिक्षा के प्रचार-प्रसार में लगी हुई है, संस्था सन्त कबीर पुस्तकालय, नि:शुल्क वाचनालय सन्त कबीर के नाम पर श्याम पार्क मेन साहिबाबाद में, नेता जी सुभाष चन्द्र बोस पुस्तकालय, नि:शुल्क वाचनालय खोड़ा कालोनी में, पण्डित मदन मोहन मालवीय के नाम पर वैशाली में, डा0 ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम के नाम से ईदगाह रोड पसोंडा में, भगवान बुद्ध नि:शुल्क पुस्तकालय, वाचनालय नंदग्राम मेन मार्किट, आश्रम रोड पर, प्रधान जी विश्राम यादव नि:शुल्क पुस्तकालय, वाचनालय सोहौली आजमगढ़ में संचालित कर रही है, संस्था में प्रतियोगी छात्रों को सरकारी सेवा में तैयारी के लिए पुस्तकें उपलब्ध कराई जाती है।

भगवान बुद्ध नि:शुल्क पुस्तकालय, वाचनालय के प्रांगण में लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट के संस्थापक/अध्यक्ष राम दुलार यादव ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में संस्था काम कर रही है, जिनमे बच्चों के लिए हर सुविधा उपलब्ध है। हमारा मानना है कि शिक्षा से ही सामाजिक परिवर्तन के साथ आर्थिक, सांस्कृतिक, राजनैतिक परिवर्तन के लिए संघर्ष की प्रेरणा मिलती है, शिक्षा से ही समाज में व्याप्त नफ़रत, पाखण्ड, अन्धविश्वास, अन्धश्रद्धा, असहिष्णुता, रूढ़िवाद, कुरीतियों के समूलनाश की लड़ाई लड़ी जा सकती है, तथा देश, समाज, व्यक्ति शिक्षा से ही शक्तिशाली होता है। समता, समानता, न्याय, बंधुता, स्वाभिमान से जीवन जीने की कला शिक्षा से ही सम्भव है। शिक्षा से सर्वांगीण विकास सम्भव है, नैतिक शिक्षा, सदाचार के साथ सत्य मार्ग पर चलने, सेवा करने का मार्ग प्रशस्त करती है। शिक्षा ही हमें अज्ञानता, अन्धकार से प्रकाश की ओर ले जाती है तथा अच्छे कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करती है। 

      कार्यक्रम में वीरेन्द्र यादव एडवोकेट, सरदार अवतार सिंह काले, संजू शर्मा, अंशु ठाकुर, बिन्दू राय, सुरेन्द्र यादव, रेनूपुरी, वी0एस0 उपाध्याय तथा प्रतियोगी छात्र आकाश गर्ग, प्रीतम कुमार यादव, ललित, सन्नी त्यागी, शशिकांत, सत्यम, नवीन, मनीष कुमार यादव, दीपक छात्रा अंजलि ने विचार व्यक्त किया। 

     कार्यक्रम में भेंट की गयी प्रमुख पुस्तकें: भारतीय कला, और संस्कृति, भारतीय संविधान, आर्थिक सर्वेक्षण, सिविल- अन्सोल्ड प्रश्न, मैकेनिकल इन्जीनियरिं पार्ट-1 व 2, एस०एस0सी0-डिस्क्रेटिव पेपर, भूगोल, पर्यावरण, मैकेनिकल इन्जीनियरिं 5000+, गणित, विज्ञानं प्रद्योगिकी, R.R.B विज्ञानं, R.R.B. गणित, गेट, नोट्स, विजन, चार्ट पेपर, लेखपाल उ0प्र0, प्लासी के बाद भारत, मानव भूगोल, भारतीय समाज, पर्यावरण पारिस्थिकी भारतीय अर्थव्यवस्था, भरता एवं विश्व का भूगोल, आजादी के बाद भारत, आतंरिक सुरक्षा, आधुनिक भारत का इतिहास, प्रारम्भिक भारत का परिचय, मध्यकालीन भारत, आपदा प्रबंधन, समाज शास्त्र, अंतरराष्ट्रीय सम्बन्ध आदि।