योजनाओं के धरातल पर उतरने से किसानों की कई गुना बढ़ेगी आय-सुबोध उनियाल

वाचस्पति रयाल—समीक्षा न्यूज 



 उद्यान विभाग की 526 करोड़ की योजनाओं का कृषि-उद्यान मंत्री सुबोध उनियाल ने की ई- लॉन्चिंग



नरेंद्रनगर। किसानों की आय दोगुनी करने का दावा ठोकने वाली प्रदेश सरकार अब इस दिशा में ठोस कदम उठा रही है।

  प्रदेश के कृषि एवं उद्यान मंत्री सुबोध उनियाल ने बृहस्पतिवार को प्रदेश की राजधानी में आयोजित एक बड़े कार्यक्रम में कृषकों के कल्याण के मकसद से बागवानी के क्षेत्र में उद्यान विभाग को कृषकों की आय का उत्तम जरिया बनाने के मकसद से प्रदेश के 4 जिलों में 526 करोड़ की बड़ी योजनाओं की ओन-लाइन ई- लॉन्चिंग की।

  प्रदेश भर के जनपदों में उद्यान विभाग इस ई-लॉन्चिंग कार्यक्रम से जुड़े और जनपद स्तर पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लेकर दूरदराज से आये कृषकों ने इस कार्यक्रम को देखा और सुना।

  जिला उद्यान अधिकारी डॉ डीके तिवारी के दिशा निर्देशन में यहां स्थित नगर पालिका टाउन हॉल में आयोजित बैठक में दूरदराज के क्षेत्रों से आय कृषक एलटीडी स्क्रीन के जरिए वर्चुअल मीटिंग का हिस्सा बने।

  प्रदेश के कृषि एवं उद्यान मंत्री सुबोध उनियाल ने उद्यान क्षेत्र में 526 करोड़ की लागत से बनने वाली बड़ी योजनाओं की लॉन्चिंग करते हुए कहा कि शुरुआत दौर में इन योजनाओं को नैनीताल, पिथौरागढ़,टिहरी और उत्तरकाशी से शूरू किया जा रहा है।

    कहा कि जल्द ही अन्य जनपदों को भी योजनाओं से जोड़ा जाएगा। प्रदेश के कृषि एवं उद्यान मंत्री सुबोध उनियाल ने विभागीय बड़ी योजनाओं के साथ प्रदेश भर की मंडियों का भी उद्घाटन किया।

  कृषि और ऊर्जा मंत्री ने बताया कि योजनाओं के लागू होने से जनपदों में हाईटेक नर्सरियां,आधुनिक किस्म की मंडियां बनाई जा रही हैं, कुछ बनकर तैयार भी हो चुकी हैं।कीवी, अनानास, हाई डेंसिटी एप्पल रूट वाले पौधों के ऊपर जबरदस्त कार्य योजना गतिमान है। इन योजनाओं के धरातल पर उतरने से कृषकों की आय निश्चित तौर पर दोगुनी से अधिक हो पाएगी।

 उद्यान क्षेत्र की योजनाओं का ई-लॉन्चिंग करते हुए उनियाल ने जापान को सबसे बड़ा मददगार बताया। कहा कि कुछ योजनाएं काफी प्रगति पर हैं,जबकि कुछ को तुरंत लागू किया जाना है।

   उन्होंने कहा कि टिहरी,उत्तरकाशी, नैनीताल और पिथौरागढ़ जनपदों में योजनाओं के निर्माण हेतु 526 करोड रुपए स्वीकृत हुए हैं।

   बागवानी के क्षेत्र में विस्तृत जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि मौन पालन को बढ़ावा देने हेतु मौन चर पौधों का रोपण करने,बागवानी के अलावा आय के स्रोतों का सृजन करने,सेव,अमरूद,नींबू वर्गीय फल लीवी उत्पादन को नवीन तकनीक इस्तेमाल करने,पायलट प्रोजेक्ट के रूप में अनानास की खेती को बढ़ावा देने,कम क्षेत्रफल में अधिक पौधों का रोपण व उत्पादन में वृद्धि करने,नव स्थापित बगीचों में इंटर क्रॉपिंग के माध्यम से अतिरिक्त उत्पादन बढ़ाने, नई फल ड्रैगन फ्रूट एवं अनानास की खेती हेतु कृषकों को जागरूक करने, बाजार आधारित बागवानी को बढ़ावा देने,औद्योगिक उत्पादों के विपणन हेतु स्थानीय स्तर पर बाजार की उपलब्धता कराने,विपणन अवस्थापना सुविधाओं का सृजन करने,सप्लाई चैन के सुदृढ़ीकरण में सहयोग करने, काश्तकारों को उनके उत्पादन का उचित मूल्य दिलाने, बाजार आधारित बागवानी को बढ़ावा देने आदि बिंदुओं पर किए जा रहे कार्यों की विस्तृत जानकारी दी।

  नरेंद्रनगर पालिका में आयोजित इस कार्यक्रम में उद्यान अधिकारी डॉ डीके तिवारी के अलावा,शील बायोटेक लिमिटेड-नई दिल्ली के वरिष्ठ प्रबंधक जेपी शर्मा व एस एच आई पंकज पटवाल के अतिरिक्त ग्रामीणों में चंदन सिंह,बलवीर सिंह, मनीष,अब्बल सिंह,रविंद्र सिंह पुंडीर, दिग्विजय सिंह,सुरेंद्र सिंह,दिनेश रमोला,जसपाल सिंह,बीना,वीरेंद्र सिंह व दीपक सिंह सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण कृषक उपस्थित थे।