वरिष्ठ समाज सेवी रामदुलार यादव ने मनाई चौधरी चरण सिंह की पुण्यतिथि


समीक्षा न्यूज संवाददाता 

साहिबाबाद। ज्ञानपीठ केन्द्र 1, स्वरुप पार्क जी0टी0 रोड साहिबाबाद के प्रांगण में गाँव, गरीब, किसान मसीहा, भारत के पूर्व प्रधानमन्त्री श्रद्धेय चोधरी चरण सिंह की पुण्यतिथि का आयोजन लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट ने किया, कार्यक्रम में चौधरी चरण सिंह के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें स्मरण कर, उनके राजनैतिक, सामाजिक, अध्यात्मिक जीवन पर चर्चा करते हुए उनके बताये मार्ग पर चलने का संकल्प लिया गया, इस अवसर पर कमजोर वर्गों में फल वितरित किया गया|



      कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए लोक शिक्षण अभियान ट्रस्ट के संस्थापक/अध्यक्ष राम दुलार यादव ने कहा कि श्रद्धेय चौधरी चरण सिंह छोटे से गाँव से निकल कर अपनी ईमानदारी, नैतिकता, लगन और निष्ठा से देश के सर्वोच्च प्रधानमन्त्री पद को सुशोभित किया, गाँव, गरीब, किसान, शोषित तथा हर वर्ग के सर्वांगीण विकास के लिए काम करते रहे| महात्मा गाँधी के सच्चे अनुयायी चौधरी चरण सिंह भारत को आजाद कराने में कई बार जेल गये और यातनाएं झेली, वे अभाव में भी कभी झुके नहीं, उन्होंने राजनीति में ईमानदारी नैतिकता से काम करने के लिए लोगों को तैयार किया, डा0 राम मनोहर लोहिया ने पिछड़ों में जो राजनैतिक चेतना पैदा की थी उसे अमली जामा पहनाया, चौधरी चरण सिंह जी ने उन्हें राजनैतिक ताकत देकर सम्मान दिलवाया, उसी का परिणाम रहा कि उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा, राजस्थान, उडीसा में पिछड़े किसान परिवार के नेता मुख्यमन्त्री बने, चौधरी साहब का कहना था सदियों से झूठे और बेईमानों का मुकाबला राजनीति में केवल ईमानदारी, नैतिक आचरण से हो सकता है, हमारे लोग राजनीतिक चकाचौध में जरा सा भी भटके तो वह उन झूठों, लम्पटों का मुकाबला नहीं कर पायेंगें| चौधरी साहब ने सिद्धांतों से समझौता कभी नहीं किया, चाहे उन्हें उसकी कितनी बड़ी कीमत चुकानी पड़ी, चौधरी साहब मूर्ति पूजा, पाखण्ड, अन्धविश्वास, अधर्म और नफ़रत के घोर विरोधी थे, वह कभी भी मन्दिर नहीं गये, उन्होंने जातिवाद में कभी भी विश्वास नहीं किया, वे सभी के कल्याण के लिए सोचते थे| उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए हम सभी सार्वजनिक जीवन में कार्य करने वाले कार्यकर्ता गर्व और गौरव का अनुभव करते है, हम चौधरी साहब के बताये मार्ग पर चलने का प्रयत्न कर रहे है, उन्हें स्मरण कर रहे है, उनके प्रति यही सच्ची श्रद्धांजलि होगी| 

       कार्यक्रम में शामिल प्रमुख रहे: राम दुलार यादव, अंशु ठाकुर, राम सुरेन्दर, हरी किसन, दयाचन्द, सुरेश कुमार, राज किशोर, संतलाल, शिव गणेश, सुभाष यादव, शिवा, भरत यादव, अजय, राम जी, स्वपन मजुमदार, अखिलेश कुमार शुक्ला, आशीष यादव, हरीश ठाकुर, लक्ष्मी नारायण सहगल आदि|