ग्रा०पं०मिंडाथ के वासियों ने वनों को बचाने, नशे को छोड़ने व क्षेत्र को नेटवर्क से जोड़ने को कसी कमर


वाचस्पति रयाल -समीक्षा न्यूज़



पाँच समितियों का गठन कर सौंपी गई अलग-अलग जिम्मेदारी



सत्ये सिंह, कमला देवी, भगवान  सिंह, नीलम देवी व विशाल सिंह बने समितियों के अध्यक्ष



नरेन्द्रनगर।वनों को संरक्षित/ संम्बर्धित करने,नशे की प्रवृत्ति पर रोक लगाने तथा क्षेत्र में नेटवर्किंग जैसी अनेकों समस्याओं को लेकर विकासखंड नरेंद्रनगर की पट्टी दोगी के गांव मिंडाथ के सामुदायिक मिलन केन्द्र में  ग्रामीणों ने आम सभा का आयोजन कर विस्तृत चर्चा उपरांत ठोस प्रस्ताव पारित कर उन्हें क्रियान्वयन में लाने का संकल्प लिया।

  ग्राम पंचायत के प्रधान गोविंद सिंह दंवाण की अध्यक्षता,कार्यक्रम के व्यवस्थापक सत्ये सिंह दंवाण व संयोजक अर्जुनसिंह दंवाण के नेतृत्व में चली ग्राम पंचायत की आम बैठक में वक्ताओं ने घटते वन,बिगड़ते पर्यावरण से उत्पन्न समस्याओं पर बोलते हुए कहा कि यदि वक्त रहते, इन समस्याओं के समाधान के संयुक्त प्रयास नहीं किए गए तो निकट भविष्य में मानव जीवन का अस्तित्व बहुत बड़े खतरे में पड़ जाएगा।

   सत्ये सिंह दंवाण,अर्जुन सिंह दंवाण,गोविंद सिंह,कमला देवी व ध्रुव सिंह आदि वक्ताओं का कहना था कि हर मामले में सरकार के भरोशे रहने के बजाय स्वयं काम को धरातल पर उतारने के लिए एक साथ कमर कस कर आगे आने की आवश्यकता है।

  वक्ताओं ने कहा कि तथा कथित विकास के नाम पर पेड़ों के सफाया होने तथा आये दिनों जंगलों में हो रही वनाग्नि की घटनाओं से जंगल साफ होते जा रहे हैं।पेडों व जंगलों के अभाव में हवा,पानी,स्वास्थ्य, वातावरण,सभी पर प्रतिकूल असर पड़ता जा रहा है।

  अफसोस जताया गया कि 22 वीं शदी में विकसित भारत की बात की जा रही है,मगर इस गंभीर विषय पर सरकारी कार्यक्रम शिर्फ़ विज्ञापनों तक सीमित हैं,इस ढुलमुल नीति पर मानव अस्मिता खतरे में पड़ती जा रही है।

  पर्यावरण संरक्षण के लिए युद्ध स्तर पर धरातल पर काम को अंजाम देने की जरूरत है।

  बैठक में सभी के विचार आमंत्रित किए गए।

  5 घंटे तक चली ग्रामीणों की इस मैराथन बैठक में वन पंचायत,महिला समूह,युवक मंगल,महिला मंडल दल सहित वनाग्नि सुरक्षा समिति का गठन किया गया।

  सत्ये सिंह दंवाण,कमला देवी, भगवान सिंह,नीलम देवी तथा विशाल सिंह समितियों के अध्यक्ष चुने गये।

  सभी समितियों के गठन में लिए गये  कुल 42 महिला/पुरूषों को दायित्व सौंपे गये हैं।

 बैठक में लिए गये निर्णय के मुताबिक ग्राम पंचायत में फलदार, चारापत्ती,औषधीय व इबारती लकड़ी की पौध लगाने,गांव में पौध शाला तैयार करने, नंगी धरती पर वृक्षारोपण करने,हरित क्रांति लाने, तथा युवा पीढ़ी में बढ़ती जा रही नशे की लत को देखते हुए नशा मुक्ति अभियान चलाने का संकल्प लिया गया है।

  क्षेत्र में नेटवर्किंग की गंभीर समस्या के समाधान के लिए सांसद प्रतिनिधि अर्जुन सिंह दंवाण द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना करते हुए,उनसे इस समस्या के निदान हेतु त्वरित कार्यवाही करने को कहा गया है।

  प्रस्ताव पारित कर सरकार से उक्त माँगों पर मदद की अपेक्षा की गई है।माँगों के लंम्बित रहने पर आँदोलन की चेतावनी भी दी गई है।

  इस मौके पर वन विभाग के वन दरोगा सीताराम डबराल,रविंद्र राठौर, सुरेश चंद्र वन बीट अधिकारी,भवानंद  रयाल, ध्रुव सिंह जेठुड़ी आदि थे।   

   विभिन्न समितियों में ध्रुव सिंह,गोविंद सिंह,बचन सिंह,विनोद सिंह,मंगल सिंह,बचन सिंह,धन सिंह, शिवानी, अंजलि, हिमानी,पायल,प्रमिला, निर्मला,वीरा देवी,सपना,विशंदे देवी,विमलादेवी,सोनिका,कैलाशी, दिनेश, पूरण सिंह,धनवीर ,अनिल, अमित व मोहिनी आदि को दायित्व सौंपा गया है।