बाबा साहब डॉ0 भीमराव आंबेडकर का नाम बड़े गर्व से लिया जाता रहेगा: मुख्यमंत्री



धनसिंह—समीक्षा न्यूज

बाबा साहब का जीवन खुली किताब की तरह: उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य 

बाबा साहब की वजह से हम सभी अपने-अपने मतों का उपयोग कर पा रहे: उप मुख्यमंत्री श्री ब्रजेश पाठक 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि दुनिया में स्वतंत्रता, समानता, न्याय व बन्धुता की जब भी बात होगी, तब बाबा साहब डॉ0 भीमराव आंबेडकर का नाम बड़े गर्व से लिया जाएगा। दबे, कुचले तथा वंचितों की न्याय की लड़ाई में बाबा साहब उनकी प्रेरणा का स्रोत होंगे।

मुख्यमंत्री जी आज यहां भारतरत्न बोधिसत्व बाबा साहब डॉ0 भीमराव आंबेडकर महासभा परिसर में उनकेे परिनिर्वाण दिवस पर आयोजित विशेष श्रद्धांजलि सभा में उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करने के उपरान्त अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। 

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि डॉ0 आंबेडकर के व्यक्तित्व से आज सभी लोग प्रेरणा प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने सामाजिक एवं अन्य प्रकार के बंधनों के बावजूद देश व दुनिया के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों में उच्च शिक्षा व डॉक्टरेट की डिग्री प्राप्त की। अपने जीवन को दबे, कुचले व वंचित तबके के उत्थान के लिए समर्पित कर दिया था।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि बाबा साहब डॉ0 आंबेडकर ने स्वतंत्र भारत के विधि एवं न्याय मंत्री के रूप में देश को एक नई दिशा दी। उनके द्वारा उस कालखण्ड में दिये गये दिशा निर्देश आज भी उतने ही प्रासंगिक बने हुए हैं, उनकी जितनी प्रासंगिकता व आवश्यकता उस समय थी।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि समाज व राष्ट्र के प्रति बाबा साहब द्वारा किये गये योगदान के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश में अनेक कार्यक्रमों का संचालन किया जा रहा है। प्रधानमंत्री जी ने देश-विदेश में बाबा साहब डॉ0 आंबेडकर से जुड़े 05 स्थलों को ‘पंच-तीर्थ’ के रूप में स्थापित किया है। उन्हांेने कहा कि महू छावनी (मध्य प्रदेश) जहां पर बाबा साहब का जन्म हुआ था, वहां भव्य स्मारक का निर्माण किया गया है। इसी प्रकार दिल्ली जहां बाबा साहब ने अपना सार्वजनिक जीवन व्यतीत किया वहां सांस्कृतिक केन्द्र व स्मारक बनकर तैयार हो गया है। बाबा साहब ने इंग्लैण्ड के जिस भवन में रहकर शिक्षा ग्रहण की थी, उसे भारत सरकार द्वारा देश के वंचित, दलितों के बच्चों के लिए उच्च शिक्षा हेतु छात्रावास के रूप में बदलने का कार्य किया है। बाबा साहब की दीक्षाभूमि नागपुर तथा अन्तिम यात्रा जो मुम्बई में हुई थी उस स्थल को भी भव्य स्मारक के रूप में विकसित करने का कार्य किया जा रहा है। 

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि आज प्रदेश में बिना भेदभाव के शासन की योजनाओं का लाभ गरीबों को मिल रहा है। आज प्रदेश में 45 लाख गरीबों को प्रधानमंत्री आवास योजना व मुख्यमंत्री आवास योजना की सुविधा का लाभ मिल रही है। स्वच्छ भारत योजना के अन्तर्गत प्रदेश में 02 करोड़ 61 लाख शौचालय निर्मित किए गए हैं, जिनमें से अनेक शौचालय गरीबों को दिए गए हैं। 01 करोड़ 63 लाख गरीब परिवारों को निःशुल्क विद्युत कनेक्शन दिये गये हैं। कोविड कालखण्ड में 15 करोड़ गरीबों को प्रदेश में तथा देश के 80 करोड़ गरीबों को निःशुल्क राशन देने का कार्य किया गया है। यह संवेदना बाबा साहब डॉ0 आंबेडकर की देन है। किसी भी लोकप्रिय सरकार को संवेदनशील होना होगा। कोविड कालखण्ड के दौरान जब पूरी दुनिया महामारी के सामने पस्त थी, उस समय केन्द्र और राज्य सरकार द्वारा निःशुल्क राशन वितरण का कार्य किया गया।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि आंबेडकर महासभा परिसर बाबा साहब डॉ0 भीमराव आंबेडकर की स्मृतियों से जुड़ा स्थल है। डॉ0 लाल जी प्रसाद निर्मल एवं उनकी टीम द्वारा यहां विभिन्न ऐतिहासिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है। प्रदेश में बाबा साहब डॉ0 आंबेडकर के भव्य सांस्कृतिक केन्द्र एवं स्मारक का निर्माण प्रदेश सरकार द्वारा किया जा रहा है। 

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार द्वारा बाबा साहब डॉ0 आंबेडकर के चित्र को सभी कार्यालयों में लगाने का कार्य किया गया है। आजादी के बाद भी शासन की योजनाओं का लाभ वनटांगिया, थारू, मुसहर, कोल, सहरिया और अन्य तमाम जातियांे को किन्हीं कारणों से नहीं मिल पाया था। इन सभी को केन्द्र व प्रदेश सरकार द्वारा लागू सभी प्रकार की योजनाओं का लाभ प्रदान किया जा रहा है। 

इससे पूर्व, मुख्यमंत्री जी ने डॉ0 आंबेडकर महासभा परिसर में स्थापित तथागत बुद्ध की प्रतिमा पर माल्यार्पण तथा डॉ0 आंबेडकर के अस्थि कलश पर पुष्पांजलि भी अर्पित की।

उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि बाबा साहब एक सर्वदृष्टा थे। बाबा साहब का जीवन एक खुली किताब की तरह है। सभी लोग बाबा साहब के विचारों को जानते व समझते हैं। प्रधानमंत्री जी ने देश-विदेश में बाबा साहब डॉ0 आंबेडकर से जुड़े 05 स्थलों को ‘पंच-तीर्थ’ के रूप में स्थापित किया है। 

उप मुख्यमंत्री श्री ब्रजेश पाठक ने कहा कि आज बाबा साहब के परिनिर्वाण दिवस के अवसर पर हम सभी उन्हें नमन कर रहे हैं। बाबा साहब की वजह से हम सभी अपने-अपने मतों का उपयोग कर पा रहे हैं। केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा गरीबों को कल्याणकारी योजनाओं का लाभ प्रदान कर बाबा साहब की सोच को धरातल पर लाने का कार्य किया गया है। 

कार्यक्रम को समाज कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री असीम अरुण तथा उ0प्र0 अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम के अध्यक्ष डॉ0 लालजी प्रसाद निर्मल ने भी सम्बोधित किया। 

इस अवसर पर लखनऊ की महापौर श्रीमती संयुक्ता भाटिया, बाबासाहेब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय, लखनऊ के कुलपति प्रो0 संजय सिंह, अन्तर्राष्ट्रीय बौद्ध भिक्षु संस्थान के अध्यक्ष श्री भन्ते शान्ति मित्र सहित अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।